जैन सोश्यल ग्रुप्स का पावापुरी में हुआ राष्ट्रीय समेम्मलन

( 4130 बार पढ़ी गयी)
Published on : 27 Dec, 21 05:12

संस्कारो के कारण मेरे जीवन मे कोई काला दांग नही लगा: कटारिया

जैन सोश्यल ग्रुप्स का पावापुरी में हुआ राष्ट्रीय समेम्मलन

सिरोही। समाज व देश तभी मजबुत होगा जब हम अपने बच्चों को समाज व देश सेवा के संस्कार उन्हे देगें। आज संस्कारो मे हो रहे पतन के कारण देश व समाज मे अनेक प्रकार की कमजोरिया घुस गई है उसका घातक खामियाजा हमे भुगतना पड रहा है। 
    ये विचार राजस्थान विधानसभा मे प्रतिपक्ष के नेता गुलाबचंद कटारिया ने जैन श्वेताम्बर सोश्यल ग्रुप्स फेडरेशन के 13 वे राष्ट्रीय अधिवेशन मे मुख्य अतिथि के रूप मे पावापुरी तीर्थ मे व्यक्त किए। उन्होने कहा कि मुझे मेरे परिवार, राष्ट्रीय स्वंय सेवक संघ, धर्म गुरूओ व समाज से ऐेसे संस्कार मिले है कि मैं राजनीति जीवन मे होते हुऐ भी मेरे अपने जीवन मे कोई काला दाग नही लग पाया ओर आज भी मैं देश सेवा व व्यवस्था मे सुधार के लिए डंके की चोट पर खरी खरी बात कहने मे कभी पीछे नही रहता हूॅ ओर यही मेरे जीवन की असली पूंजी हैं। उन्होने कहा कि जैन धर्म मे जीवदया, परोपकार एवं सत्यता पर चलने का जो मूल मंत्र हैं वो ही देश का भविष्य हैं ओर यही कारण है कि आज 2600 वर्ष के बाद भी भगवान महावीर के बताये गये सिद्धान्त व मार्ग प्रांसागिक है।
    उन्होने फेडरेशन मे मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र, गुजराज व अन्य प्रांतो से आये हजारो प्रतिनिधियो का राजस्थान की धरती पर स्वागत करते हुऐ भामाशाह की जीवनी पर प्रकाश डालते हुऐ कहा कि राजस्थान मे जो तप-जप-त्याग व दान की जो भावना है वो अद्भूत हैं। पावापुरी तीर्थ व जीव मैत्रीधाम के निर्माता के पी संघवी के प्रमुख स्व. बाबुकाका को याद करते हुऐ कहा कि उनकी लम्बी सोच व करूणा के भाव से पावापुरी तीर्थ व गौशाला का ऐसा भव्य कार्य बाबुकाका ने कर एक ऐसा इतिहास लिखा जो युगो युगो तक जनता याद करेगी। उन्होने कहा कि हम घर आये चार मेहमानों को सम्भालने मे भी सोचते है लेकिन के पी संघवी परिवार 23 वर्ष से हजारो गोवंश का लालन पालन कर जीवदया का अनुठा व अनुकरणीय कार्य कर रहा हैं वो वास्तव मे सराहनीय है।
    उन्होने कहा कि कि राजनीति हो, धर्म हो, सगंठन हो या व्यापार सभी जगह व्यक्ति निष्ठा, लग्न व ईमानदारी से कार्य करता है तो ईश्वर उसका जरूर साथ देता हैं। उन्होने शोभायात्रा मे उत्कृष्ठ प्रर्दशन करने वाले चयनित ग्रुप को एवार्ड वितरण करते हुऐ उन्हे शुभकामनांए दी।
    प्र्रारम्भ मे जैन फेडरेशन के संस्थापक अध्यक्ष विजय मेहता व वर्तमान अध्यक्ष किशोर पोरवाल व अधिवेशन संयोजक विजय ललवानी ने कटारिया का मालार्पण व स्मृतिचिन्ह अर्पण कर अभिनंदन किया ओर कहा कि वे राजस्थान के गौरव है ओर जनता उनकी सरलता, सादगी, समर्पण व जनता के लिए हर वक्त खडे रहने के स्वभाव व आचरण की कायल हैं। पावापुरी ट्रस्ट की ओर से मेनेजिंग ट्रस्टी महावीर जैन ने कटारिया का स्वागत व अभिनंदन किया। 
    कटारिया ने पावापुरी तीर्थ मे विराजित दादा शंखेश्वर पाश्र्वनाथ के दर्शन कर शोभा यात्रा मे शरीक हुऐ जहाॅ पर प्रतिनिधियो ने आत्मीयता के साथ उनका स्वागत कर उनके साथ सैल्फी व फोटो खिचवायें। भोजन कक्ष मे पधारने पर इन्दौर के मनीष सुराणा व आज के भोजन लाभार्थी रमेशचन्द्र खटोड परिवार ने कटारिया का स्वागत किया।
    रात्रि मे पावापुरी मे आयोजित कवि सम्मेलन मे हास्य रंग के विख्यात कवि पदमश्री सुरेन्द शर्मा, पार्थ नवीन, अर्जुन अल्हड व शंशिकांत ’’ शशि ’’ ने कविता पाठ के माध्यम से श्रेताओ को बांधे रखा ओर जीवदया, करूणा, राष्ट्र पे्रम व देश के हालातेा पर कविता पछ कर श्रोताओ का मन जीता ओर खुब हसाकर लोटपोट कर दिया। शोभा यात्रा मे कोरोना से बचाव की थीम पर पुरूषो व महिलाओं ने हाथ मे तखती लेकर चलते हुऐ बता रहे थे कि जीवन को बचाने के लिए कोराना वेक्सिन की दोनो डोज लगाना है जरूरी। 
 


साभार :


© CopyRight Pressnote.in | A Avid Web Solutions Venture.