गीतांजलि इंस्टिट्यूट ऑफ़ फार्मेसी द्वारा राष्ट्रीय वेबिनार का आयोजन

( 10452 बार पढ़ी गयी)
Published on : 26 Jun, 21 15:06

फार्मास्यूटिकल सेक्टर में रोज़गार पाने के लिए आवश्यक तकनीक व कौशल विकास पर गीतांजलि इंस्टिट्यूट ऑफ़ फार्मेसी द्वारा राष्ट्रीय वेबिनार का आयोजन

गीतांजलि इंस्टिट्यूट ऑफ़ फार्मेसी द्वारा राष्ट्रीय वेबिनार का आयोजन

महामारी के इस दौर के बाद फार्मास्यूटिकल सेक्टर में रोज़गार की असीमित संभावनाएं है। फार्मेसी के कोर्सेज जैसे डी फार्मा , बी फार्मा, फार्म डी व एम् फार्मा करने के दौरान विद्यार्थियो को रोज़गारोन्मुखी तकनीक व कौशल के विकास पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता होती है। इसी सन्दर्भ में गीतांजलि यूनिवर्सिटी के गीतांजलि इंस्टिट्यूट ऑफ़ फार्मेसी व अमेरिका की प्रतिष्ठित इसपौर सोसाइटी द्वारा अनुमोदित गीतांजलि यूनिवर्सिटी स्टूडेंट चैप्टर द्वारा "फार्मास्यूटिकल सेक्टर में करियर गाइडेंस" पर विभिन्न वेबिनारों का आयोजन किया जाता रहा है। इसी कड़ी में शनिवार को "फार्मास्यूटिकल सेक्टर में रोज़गार पाने के लिए आवश्यक तकनीक व कौशल विकास" शीर्षक पर एक राष्ट्रीय वेबिनार का आयोजन किया गया। इस वेबिनार में देश के विभिन्न राज्यों के 100 से अधिक महाविद्यालयों व विश्वविद्यालयों के 680 से अधिक प्रतिभागियों ने अपना पंजीकरण कराया।

वेबिनार में डॉ रेड्डी लैबोरेट्रीज के सीनियर लेवल मैनेजमेंट के मेंटर, ट्रेनर व कोच श्री मोहन सेशाद्री ने विद्यार्थियों के साथ फार्मास्यूटिकल जॉब्स पाने के लिए आवश्यक स्किल व टेक्निक्स साझा की।

श्री सेशाद्री ने फार्मास्यूटिकल इंडस्ट्री में अपने चार दशक से अधिक अनुभव के आधार पर जॉब्स के बारे में विस्तार से चर्चा की। कार्यक्रम में गीतांजलि इंस्टिट्यूट ऑफ़ फार्मेसी के प्रधानाचार्य डॉ महेंद्र सिंह राठौड़ ने अपने स्वागत उद्बोधन में फार्मेसी के क्षेत्र में एक अच्छा करियर बनाने के लिए सुनियोजित प्लानिंग बनाने की आवश्यकता पर ज़ोर दिया। कार्यक्रम का संचालन डॉ नरेंद्र व श्री घनश्याम सेवक ने किय। वेबिनार के सफल आयोजन के लिए गीतांजलि विश्वविद्यालय के रजिस्ट्रार श्री भूपेंद्र मांदलिया व वाईस चांसलर डॉ ऍफ़ ऐस मेहता जी ने फार्मेसी कॉलेज के शिक्षकगणों व विद्यार्थियों को शुभकामनाएं प्रेषित की।


साभार :


© CopyRight Pressnote.in | A Avid Web Solutions Venture.