सांसद जोशी ने लोकसभा में उठाया प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना की राशि के संबध में विषय

( 5356 बार पढ़ी गयी)
Published on : 21 Mar, 20 04:03

सी.पी.जोशी

सांसद जोशी ने लोकसभा में उठाया प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना की राशि के संबध में विषय
नई दिल्ली  :- चित्तौडगढ सांसद सी.पी.जोशी ने आज लोकसभा में शुन्यकाल के दौरान सदन की कार्यवाही में भाग लेते हुये राजस्थान राज्य में प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत किसानों के खातों में दी जानी वाली राशि मे राजस्थान राज्य के अंश को जारी किये जाने में विलंब को लेकर विषय रखा।
सांसद जोशी ने सदन को अवगत कराते हुए बताया की प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना जिसमें किसानों को अपना फसल में खराबा होने पर उस फसल के खराबे की राशि उनके खाते में स्थानान्तरित कि जाती है। यह योजना केन्द्र सरकार ने प्रारंभ की तथा इसमें कुछ अंश राज्य सरकार का भी होता है। इस वर्ष बारीश के मौसम में ओलावृष्टि तथा अतिवृष्टि के कारण वर्ष 2019 में हर महिने में फसलों को नुकसान हुआ है। इससे पुर्व में जब अधिक बारिश हुयी तब प्रधानमंत्री महोदय ने नियमों में शिथिलता प्रदान करते हुये 50 प्रतिशत खराबे पर मुआवजे को घटाकर 33 प्रतिशत किया जिसके कारण करोडों रूपयों का मुआवजा किसानों के खातों में आया।
सांसद जोशी ने मांग करी की राजस्थान सरकार का जो प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना में राज्य अंश होता है वो लगभग 1200 करोड़ है जिसको यदि राज्य सरकार जल्द जारी करती तो अब तक राजस्थान के किसानों के खातों में फसल बीमा योजना की राशि अब तक किसानों के खातों में पहुंच गयी होती, लेकिन राजस्थान सरकार की मंशा नही होने के कारण अब तक उन्होंने केवल 50 करोड़ रूपये ही फसल बीमा योजना के लिये अंश जारी किया हैं, अभी भी 1150 करोड़ बाकी जिसके चलते किसानों के खातों में भुगतान नही पंहुच पा रहा है।
संसदीय क्षेत्र चित्तौड़गढ़ में प्रतापगढ़ में किसान अधिक परेशान है क्योंकि 130 इंच बारिश के चलते फ़सल खत्म हो गयी है यदि राजस्थान राज्य की सरकार अपना अंश यदि जल्द जारी करे तो केन्द्र सरकार प्रधानमंत्री किसान फसल बीमा योजना के तहत किसानों के लिये मिलने वाली राशि जल्द जारी हो सकेगी।
गौरतलब हैं की इसके लिये सांसद जोशी ने केन्द्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर एवं राज्य मंत्री कैलाश चौधरी से भेंट भी की थी। 

साभार :


© CopyRight Pressnote.in | A Avid Web Solutions Venture.