कल्याण सिंह कोठारी पर बनाई डाक्यूमेंट्री फिल्म इंडिया बुक ऑफ रिकार्ड में शामिल

( 6668 बार पढ़ी गयी)
Published on : 15 Mar, 20 06:03

डॉ. रमेष रावत की प्रख्यात पत्रकार कल्याण सिंह कोठारी पर बनाई डाक्यूमेंट्री फिल्म इंडिया बुक ऑफ रिकार्ड में शामिल

 कल्याण सिंह कोठारी पर बनाई डाक्यूमेंट्री फिल्म इंडिया बुक ऑफ रिकार्ड में शामिल

चौमूं तहसरील की अषोक विहार कॉलोनी के निवासी डॉ. रमेष कुमार रावत ने देष के प्रख्यात पत्रकार कल्याण सिंह कोठारी पर मीडिया मेकर्स ऑफ राजस्थान-कल्याण सिंह कोठारी शीर्षक से 58 मीनट 53 सैंकड की एक रिसर्च डाक्यूमेंट्री फिल्म बनाई है। इस फिल्म को इंडिया बुक ऑफ रिकार्ड में शामिल करते हुए डॉ. रावत को श्ए-सेल्फमेड रिसर्च बॉयोग्राफी डाक्यूमेंट्रीश् शीर्षक प्रमाण पत्र, मैडल, इंडिया बुक ऑफ रिकार्ड होल्डर 2020 के परिचय पत्र दिया गया हैै। यह प्रमाण पत्र इंडिया बुक ऑफ रिकार्ड के चीफ एडिटर डॉ. बिष्वरूप चौधरी ने जारी किय है।

इस फिल्म में डॉ. रावत ने डायरेक्षन, स्क्रिप्ट राईटिंग, फिल्म शुटिंग, फिल्म एडिटिंग, वोईस ऑवर, रिसर्च वर्क, लोकेषन सलेक्षन सहित तमाम कार्यो को अकेले ही किया है। इस फिल्म में कल्याण सिंह कोठारी जी के अनुभवों के आधार पर उनसे बात-चित को शुटिंग एवं एडिटिंग के माध्यम से युद्ध पत्रकारिता, विधि पत्रकारिता, राजनैतिक पत्रकारिता, विकासातम्क पत्रकारिता, बाल संरक्षण एवं पंचायत पत्रकारिता, सिटिजन जर्नलिज्म, खोजी पत्रकारिता, आर्थिक पत्रकारिता, सांस्कृतिक एवं ऐतिहासिक स्थल पत्रकारिता एवं स्वास्थ्य पत्रकारिता में कल्याण कोठारी जी के अनुभवों को फिल्माया गया है। यह फिल्म निष्चत ही पत्रकारिता के विद्यार्थियों एवं नौसिखियां पत्रकारों के लिए लाभकारी होगी एवं इस फिल्म के माध्यम से वे पत्रकारिता की इन विधाओं के बारे में जानकरी प्राप्त करेंगे। इसके साथ ही कोठारी जी के जीवन से जुड़े उनके अचिवमेंट्स को भी इस फिल्म में दिखाया गया है। डॉ. रमेष रावत ने दावा किया है कि प्रख्यात पत्रकार कल्याण सिंह कोठारी पर बनाई गई यह रिसर्च बॉयोग्राफी फिल्म विष्व की प्रथम फिल्म जो कि 58 मिनट 53 सैंकड की है।

डॉ. रावत ने बताया कि इस डाक्यूमेंट्री फिल्म में पद्मविभूषण विजयषंकर व्यास, प्रोफेसर कुलभूषण कोठारी, प्रो. संजीव भानावत, प्रो. घनष्याम धर, अषोक चतुर्वेदी, पत्रकार डॉ. ताबिना अंजुम कुरेषी, मोहम्मद इकबाल सहित कोठारी जी के परिजनों एवं अनेक सुधिजनों के विचारों को समाहित किया गया है। डॉ. रावत का नाम इस फिल्म के लिए इंडिया बुक ऑफ रिकार्डस में शामिल किए जाने पर उन्हें उनके परिजनों एवं मित्रों ने बधाई दी है। साथ ही आगे भी इसी प्रकार से श्रेष्ट प्रदर्षन करने का आह्वान किया है।


साभार :


© CopyRight Pressnote.in | A Avid Web Solutions Venture.