झण्डारोहण के साथ दादाकुशलगुरू मेला शुरू

( 1557 बार पढ़ी गयी)
Published on : 24 Feb, 20 04:02

झण्डारोहण के साथ दादाकुशलगुरू मेला शुरू

जैसलमेर |  आध्यात्मिक जगत के महान संत दादा जिनकुशलसूरि ट्रस्ट मण्डल (Great Saint Dada Jinkushalsuri Trust Board)के तत्वावधान में जिला मुख्यालय से १५ किमी दूर स्थित ब्रहमसर दादावाडी परिसर में रविवार को सुबह दादा कुशलगुरू मेला समारोह पूर्वक प्रारंभ हुआ। वसीमालानी रत्नशिरोमणी ब्रहमसर तीर्थोद्वारक आचार्य श्री मनोज्ञसुरिश्वर जी म०सा० व मुनि कल्पज्ञसागर, मुनि नयज्ञसागर, व सकल जैन श्रीसंघ के साथ ब्रहमसर गांव से एक भव्य वरघोडे का आयोजन (Grand wedding ceremony)किया गया। ब्रहमसर तीर्थ पहुंचने पर पार्श्व महिला मण्डल द्वारा और दादा जिनकुशलसूरि ट्रस्ट मण्डल ने सामेला कर आचार्यश्री की अगवानी की ।  जिनकुशलसूरि की ६८७वीं पुण्यतिथि के अवसर पर मुख्य अतिथि जिला कलक्टर नमित मेहता ने कहा कि जीवन को संस्कारित बनाने के लिये त्याग समर्पण एवं विश्वास का होना जरूरी है। ऐसा करने पर ही कुशलगुरू की पुण्यतिथि की सार्थकता सिद्ध होगी । उन्होने कहा कि गुरू निःस्वार्थी होते है भगवान महावीर व दादा जिनकुशलसूरि ने अपने संदेश में सदैव जीव मात्र के कल्याण की बात कही है (The message always talks about the welfare of the living being)हमें अपने जीवन को सत्य अहिंसा मानवता के कल्याण के मार्ग पर अग्रसर करना चाहिये क्यों कि यही सच्चा मार्ग है हमारे महापुरूषों ने सदैव इन्हीं मूल्यों को प्रतिष्ठित किया है ।

     इस अवसर पर ब्रहमसर ट्रस्ट के प्रबंधक मंत्री गैनीराम मालू ने ट्रस्ट का आभार प्रतिवेदन प्रस्तुत किया ब्रहमसरतीर्थ के विकास का वर्णन करते हुए आशा व्यक्त की कि यहां के जीर्णोद्वार के अधूर कार्यो को शीद्य्र पूरा करा दिया जायेगा । इस अवसर पर मुनिराज कल्पज्ञसागर जी महाराज साहब ने कुशलगुरू की जय या जयकारों का नहीं बल्कि उनके उपदेशों को जीवन में उतारने का विषय है असंभव कार्य को करने वाले कुशलगुरू ही है । वसीमालानी रत्नशिरोमणी ब्रहमसर तीर्थोद्वारक आचार्य श्री मनोज्ञसुरिश्वर जी म०सा० की पावन निश्रा में नवकार मंत्र की धुन के साथ पंचरंगी झण्डे का ध्वजारोहण (Flag hoisting of Panchrangi flag) कर दो दिवसीय धार्मिक मेले का श्रीगणेश किया । आचार्यश्री की गुरूवन्दना मंगलाचरण के बाद महोत्सव का शुभारंभ दादा जिनकिशलसूरि की तस्वीर के आगे अतिथि एवं मुख्य अतिथियों एवं ट्रस्ट मण्डल के पदाधिकारियों द्वारा दीप प्रज्जवल्लन व माल्यार्पण के साथ शुरू हुआ ।

     इस अवसर पर वसीमालानी रत्नशिरोमणी ब्रहमसर तीर्थोद्वारक आचार्य श्री मनोज्ञसुरिश्वर जी म०सा० ने धर्मसभा को संबांधित करते हुए कहा कि कुशलगुरू की पुण्यतिथि पर हमें पीडित मानवता की सेवा का संकल्प लेना चाहिये मेरा इस कुशलगुरू मेले में आना तभी सार्थक है कि हमारे दिल में कृतज्ञ के भाव होने चाहिये इस परिक्षेत्र का इस पावन भूमि का आतंरिक और बाह्य रूप से विकास हुआ है लेकिन अभी तक लोगों में कृतज्ञता के भाव विकसित नहीं है जिन्हें आज गुरूदेव के आगे संकल्प लेना चाहिये ।

     इस अवसर पर दादा कुशलगुरू मेले के लाभार्थियों का ट्रस्ट मण्डल (Trust board)की ओर से बहुमान किया गया सुबह का नाश्ता श्री हुक्मीचंद जी मांगीलाल जी गौतम जी राकांसेतिया परिवार धोरीमन्ना नौकारसी का लाभ बाबूलाल जी सम्पतराज घेवरचंद मालू परिवार झिंझिंनियाली वालों ने लिया । शाम की नौकारसी का लाभ पुखराज मेवीलाल जी तेजमालता श्रीश्रीमाल परिवार पाली मदुरैई चाय केन्टीन का लाभ बाडमेर जैन समाज जोधपुर यात्रा संघ ने लिया । दाद गुरूदेव की बडी पूजा का लाभ अखिल भारतीय खरतरगच्छ युवा परिषद शाखा बाडमेर वालों ने लिया । इस अवसर पर तिलक माला साफा चुनडी श्रीफल एवं मोमेन्टों के लाभार्थियों का ट्रस्ट मण्डल की ओर से बहुमान किया गया । इस अवसर पर आचार्य श्री को ट्रस्ट मण्डल की ओर से कम्बली ओढाई गई ।

- २ -

दोपहर मे दादा जिनकुशल गुरूदेव की बडी पूजा अखिल भारतीय खरतरगच्छ युवा परिषद (Akhil Bhartiya Khartargach Youth Council) शाखा बाडमेर वालों द्वारा कुशल भक्ति मण्डल व संगीतकार ओमप्रकाश म्युजिकल पार्टी द्वारा व अन्य कलाकारों ने अत्यन्त मनोहारी सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत कर दादावाडी को आंनंदमय व भक्तिमय बना दिया जिनकुशल भक्ति मण्डल द्वारा विमलनाथ भगवान की अंगरचना व दादवाडी पर फूलों की सजावट एवं रंगबिरंगी लाईट की सजावट की गई ।

दादा जिनकुशलसूरि ट्रस्ट के अध्यक्ष दानमल डूंगरवाल ने कहा कि हमारा सौभाग्य है कि पूज्य गुरूदेव आचार्य पदवी प्राप्त होने के बाद पहली बार दादा के दरबार में पधारे में है। हमारा ट्रस्ट मण्डल प्रसन्न एवं गद्गद् है ट्रस्ट मण्डल नित्य की भांति उत्तरोतर विकास के पद पर अग्रसर है हम पूज्य आचार्यश्री के आर्शीवाद से इस विकास को और गति देने का विश्वास रखते है। आप सभी का आर्शीवाद बना रहे मैं श्रीमान् जिला कलक्टर महोदय एवं समस्त अतिथियों का पुनः आभार ज्ञापित करता हूँ इस मेले को सफल बनाने में जिन-जिन गुरूभक्तों ने बोलियों के रूप में मेले की व्यवस्था बनाने के सहयोग दिया है वे सभी धन्यवाद कि पात्र है मैं कुशल दर्शन मित्र मण्डल ब्रहमसर ग्रुप बाडमेर, कुशल भक्ति मण्डल बाडमेर पार्श्व मण्डल बाडमेर जिनकुशल युवा मण्डल एवं पार्श्व महिला मण्डल जैसलमेर की सराहनीय सेवाओं के लिये बहुत-बहुत आभार व्यक्त करता हूँ । इस अवसर पर नाकोडा तीर्थ के पूर्व अध्यक्ष अमृतलाल जैन, दानमल डूंगरवाल, बेनीराम मालू, पारसमल जी घीया, जैन ट्रस्ट कोषाध्यक्ष शेरसिंह जैन नेमीचन्द बागचा, मूलचंद कोठारी, प्रचार मंत्री पारसमल गाठी, ओमप्रकाश संखलेचा, बाबूलाल टी० बोथरा, बाबूलाल जी लूणिया लखमीचंद जी चितलवाना, मनसुख पारख, अशोक धारीवाल मदन मालू, नेमीचंद छाजेड बायतु, ब्राहमण महासभा के अध्यक्ष डॉ० शरद दूबे, डॉ० जी०के० परमार, जी० मल्होत्रा, सोहनलाल जी, ओमप्रकाश जी मंडोरा सिणधरी, सम्पत जी धारीवाल, मेवीलाल डूंगरवाल, बंधडा से मेवालाल मालू उदयपुर से रवि जी लोढा बीकानेर से सुनील पारख, कोषाध्यक्ष राणामल संखलेचा के साथ ही भाटीपा क्षेत्र एवं जैसलमेर नगर के गणमान्य नागरिक भी इस अवसर पर उपस्थित थे । कार्यक्रम का संचालन मोतीलाल मालू व महेन्द्र भाई बापना ने किया ।

बापना ने बताया कि सोमवार को विमलनाथ जिनालय में सत्तरभेदी पूजा के साथ दादावाडी और भैरव महाराज की ध्वजारोहण का कार्यक्रम होगा एवं दोपहर में मेले का समापन होगा ।

 


साभार :


© CopyRight Pressnote.in | A Avid Web Solutions Venture.