तप अनुमोदना महोत्सव आयोजित

( 5265 बार पढ़ी गयी)
Published on : 04 Nov, 19 05:11

Dinesh Gothwal

तप अनुमोदना महोत्सव आयोजित

उदयपुर। महावीर जैन श्वेताम्बर समिति सेक्टर ११ के तत्वावधान में  आज आलोक स्कूल के सभागार में तप निधि दिव्य मसा के १०८ उपवास का ज्ञान ध्यान सेवा और साधना के साथ विशाल तप अनुमोदन महोत्सव का आयोजन किया गया।

राष्ट्र संत कमलेश मुनि के सानिध्य में हुए इस आयोजन मे श्वेताम्बर के साथ ही दिगंबर मुनियों ने भी भाग लिया। इस अवसर पर दिगंबर आचार्य वैराग्य मुनि, आचार्य सुंदर सागर, महासती मनोहर कुंवर, पारस कुंवर मसा सहित कई साधु संतों की मौजूदगी में १०८ तप  करने वाली साध्वी दिव्यश्री का पछ्ख्यान कराई गई।

समारोह में आए अतिथि नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया, मुख्य अतिथि जैन कान्ॅफ्रेन्स के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष नेमीचंद चोपडा,समारोह गौरव पोपटलाल सेठ ओस्तवाल,मुबंई के समाज सेवी उत्तमचंद कर्णावट,महापौर चन्द्रसिंह कोठारी ने तीन नई गौशालाओं कृष्ण महावीर गौशाला गोगुन्दा, पार्श्व भैरव गौ धाम उमरडा व श्री जैन गौ शाला नाई का लोकार्पण किया। इस मौके पर संत कमल मुनि ने कहा कि जैन धर्म तप प्रधान है और तप से ही जीवन और मरण सुधार सकता है, वही दिगंबर आचार्य वैराग्य मुनि ने शाकाहार पर बोलते हुए कहा कि आज समाज में बच्चे फास्ट फूड की और जा रहे है जो कि गलत है। इसके इस्तेमाल से उनका स्वास्थ तो खराब हो ही रहा है और इन वस्तुओं में मंासाहार भी परोसा जा रहा है।

कमल मुनि ने तप के महत्व पर प्रकाश डालते हुए कहा कि जैन धर्म तप प्रधान है। उन्हने महावीर की उग्र तपस्या की चर्चा करते हुए कहा कि महासती दिव्यश्री मसा. की तप की अनुमोदना की। उन्हने आचार्य शिवमुनि,युवाचार्य महेन्द्र ऋषि,उपाध्याय मूल मुनि,प्रवर्तक सुकन मुनि द्वारा की गई तप की अनुमोदना का संदेश पढकर सुनाया।

प्रियदर्शनाश्री ने कहा कि जिनके तन में मन रम जाता है,देवता भी उन्हें नमस्कार करते है। राजस्थान सिंहनी आगम ज्ञाता डॉ. चेतना ने तप पर प्रकाश डालते हुए कहा कि मन में संकल्प हो तो सिद्धी प्राप्त हो जाती है। जहंा दिव्यश्री मसा. ने १ उपवास भी नहीं कर सकते थे, वे अनेक वर्षो तक मासखमण व ११३ तक की तपस्या कर यहंा १०८ की तपस्या का उदयपुर में रिकॉर्ड स्थापित किया है।

दिगंबर आचार्य वैराग्यंनदी महाराज एवं आचार्य सुंदर सागर महाराज ने सभी को जैन पद्धति के अनुसार बच्चों में संस्कार,भोजन में सात्विकता,आचार-विचार पर प्रकाश डाला एवं तप की अनुमोदना की। सभा को महासती मनोहर कुंवर,सेवााभावी पारस कुंवर एवं महासती डॉ.सुलक्षणा ने भी संबोधित किया।

इस अवसर नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया ने गौ सेवा प्रकल्पों की जानकारी दी। पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष नेमीचंद चोपडा ने तप की अनुमोदना के साथ गौशालाओं के लिये आर्थिक सहायता की घोषणा की।

सभा को महापौर चन्द्रसिंह केाठारी, ओंकारसिंह सिरोया सहित संघ के श्ंाातिलाल बाबेल,ज्योतिषाचार्य कांतिलाल जैन ने भी संबोधित किया। प्रारम्भ में स्वागत उद्बोधन मुख्य संस्थापक कन्हैयालाल नलवाया ने दिया। आभार अध्यक्ष श्ंाातिलाल बाबैल ने ज्ञापित किया। कार्यक्रम में सुशीला कच्छारा एवं श्रीमती शकुन्तला ने नाटिका का प्रस्तुति दी। इस अवसर पर भाजपा जिलाध्यक्ष रविन्द्र श्रीमाली,रजनी डंागी, समाजसेवी मांगीलाल लुणावत, धर्मेश जैन,कैलाश गेलडा,भवंर सेठ, नरेश लोढा,राजकुमार फत्तावत, फतहलाल नागौरी,लक्ष्मीलाल वीरवाल,शंकरलाल डंागी सहित अनेक गणमान्य नागरिक मौजूद थे। कार्यक्रम का  संचालन चौसरलाल कच्छारा एवं हंसा हिंगड ने किया।


साभार :


© CopyRight Pressnote.in | A Avid Web Solutions Venture.