‘द कल्चर ऑफ अकाण्टेबिलिटी’

( 1819 बार पढ़ी गयी)
Published on : 12 Oct, 19 14:10

‘द कल्चर ऑफ अकाण्टेबिलिटी’

दिल्ली पब्लिक स्कूल, उदयपुर के शिक्षकों एवं विद्यार्थियों के व्यक्तिगत विकास एवं निर्माण पर ‘द कल्चर ऑफ अकाण्उटेबिलिटी’ वि६शय पर कार्यशाला का आयोजन किया गया। कार्यशाला दिल्ली से आये वरि६ठ वक्ता श्री सूर्यनारायण बहादुर जो कि केम्ब्रिज विवविद्यालय के कम्यूनिकेशन विभाग से प्रमाणित है, ने बताया कि सतत् एवं स्थायी सफलता का आनंद प्राप्त करने के लिए दूसरों का सम्मान व सेवा करने में यकीन रखना होगा। साथ उन्होंने शक्षकों के संगठन, विद्यार्थी विकास, अभिभावक सहभागिता एवं समाज का पो६शण जैसे मुख्य बिन्दुओं पर प्रकाश डालते हए बताया कि शक्षकों को श्रे६ठ परिणाम हेतु योजनाबद्ध तरीके से विद्यार्थियों के सम्पूर्ण विकास में योगदान देना है। इस बात को विस्तार से अलग-अलग पहलुओं पर समझाया गया। उन्होंने बताया कि डीपीएस, उदयपुर देश में एक अग्रणी शिक्षण संस्था है तथा यहां के शक्षक अपनी श्रे६ठ गुणवत्ता रखते हुए देश के विकास में महत्वपूर्ण योगदान दे रहे हैं। इस कार्य को और आगे बढाने हेतु एक सकारात्मक सोच के साथ हमेशा इसी तरह कार्य को सामूहिक रूप से करते रहना होगा।

प्रो. वाइस चेयरमेन गोविन्द अग्रवाल, विद्यालय के प्राचार्य संजय नरवरिया ने इस अनूठी ७ौक्षिक कार्यशाला पर धन्यवाद ज्ञापित करते हुए शक्षकों को विद्यालय, विद्यार्थी एवं स्वयं के निर्माण हेतु सकारात्मकता, कर्मठता एवं अनुशासन को सतत बनाये रखने की प्रेरणा दी। अंत में विद्यालय के ७ौक्षिक समन्वयक विनीत जैन ने धन्यवाद ज्ञापित किया।


साभार :


© CopyRight Pressnote.in | A Avid Web Solutions Venture.