अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस पर बालिकाओं ने रंगों से किया विचारों को व्यक्त .....

( 893 बार पढ़ी गयी)
Published on : 12 Oct, 19 05:10

शिक्षा के द्वारा बालिकायें लिखे अपने भावी जीवन की स्क्रिप्ट - सविता लौरी 

अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस पर बालिकाओं ने रंगों से किया विचारों को व्यक्त .....

स्वामी विवेकानन्द स्कूल में संस्थान द्वारा "बालिका शक्ति - अप्रकाशित और अजेय" विषय पर आयोजित वार्ता में बालिकाओं को सम्बोधित करते हुए कामकाजी महिलाओं पर शोषण की शोधार्थी और संस्थान की अध्यक्ष सविता लौरी ने कहा कि बालिकायें अपनी स्वयं की शक्ति पर विश्वास करते हुए वे अपने शरीर और भावनाओं पर नियंत्रण रखें, अपने सुखद भावी जीवन की स्क्रिप्ट लिखें और अपने जीवन को आकार दें। 

लौरी ने कहा कि बालिकायें अपनी शिक्षा को पूरा करते हुए उन कौशलों को भी प्राप्त करे, जो उन्हें अच्छे रोजगार और बालिकाओं की पूर्ण क्षमता तक पहुंचने के लिए आवश्यक हैं। जीवन के सभी क्षेत्रों में लड़कियों को सशक्त बनाने से न केवल परिवार अपितु देश की समृद्धि और आर्थिक विकास मदद मिल सकती है। वार्ता को ज्योत्सना खत्री, गणेश कँवर तथा प्रीति माधवानी ने भी अपने विचार व्यक्त किए। 

कार्यक्रम प्रभारी लोकेश जैन ने बताया कि "बालिका शक्ति - अप्रकाशित और अजेय" विषय पर पोस्टर प्रतियोगिता का आयोजन किया गया ,जिसमें बालिकाओं बालिका शक्ति पर अपने विचारों को रंगों के द्वारा अभिव्यक्त करते हुए बालिका शिक्षा, कन्या भ्रूण हत्या,  दहेज प्रथा विरोध, लिंगभेद , यौन शोषण पर पोस्टर बनाये।

पोस्टर प्रतियोगिता में कविता मेवाडा प्रथम स्थान पर तथा कीर्ति शर्मा द्वितीय स्थान पर रही। इस अवसर पर गुरमीत सिंह, मनोज वर्मा, जितेन्द्र सिंह, कैलाश मोदी सहित बालिकायें मौजुद रही। 

 


साभार :


© CopyRight Pressnote.in | A Avid Web Solutions Venture.