देवझूलनी एकादशी, मोहर्रम व अनन्त चतुर्दशी के मद्देनजर लोकशांति एवं कानून व्यवस्था हेतु ड्युटी मजिस्ट्रेट नियुक्त

( 8330 बार पढ़ी गयी)
Published on : 06 Sep, 19 05:09

देवझूलनी एकादशी, मोहर्रम व अनन्त चतुर्दशी के मद्देनजर लोकशांति एवं कानून व्यवस्था हेतु ड्युटी मजिस्ट्रेट नियुक्त

बांसवाड़ा । कलक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट आशीष गुप्ता ने आगामी 9 सितम्बर को देवझूलनी एकादशी एवं 9 व 10 सितम्बर को मोहर्रम तथा 12 सितम्बर को अनन्त चतुर्दशी पर्व पर लोकशांति एवं कानून व्यवस्था बनाये रखने के लिए ड्युटी मजिस्ट्रेट नियुक्त कर दिये हैं।
जिला मजिस्ट्रेट द्वारा जारी आदेश के मुताबिक 9 सितम्बर को देवझूलनी एकादशी पर रामरेवाडि़यां विभिन्न मंदिरों से निकलकर दोपहर तक आजाद चौक पहुंचेंगी जहां से रामरेवाडि़यां एवं अखाड़े शोभायात्रा के रूप में शहर के निर्धारित मार्गों से होेते हुए राजतालाब पहुंचेंगे। राजतालाब पर मेला भी लगेगा। राजतालाब पर पूजा-अर्चना के बाद लगभग 8 बजे के उपरांत शोभायात्रा पुनः गोरख ईमली होते हुए वापस आजाद चौक होकर रामरेवाडि़यां अपने-अपने स्थान पर पहुंचेगी।
इसके लिए अतिरिक्त जिला कलक्टर एवं अति. जिला मजिस्ट्रेट को शहर की संपूर्ण कानून व्यवस्था पर निगरानी तथा शोभायात्रा को शांतिपूर्ण सम्पन्न कराने की जिम्मेदारी सौपी गई है वहीं उपखंड मजिस्ट्रेट बांसवाड़ा, तहसीलदार बांसवाड़ा, संयुक्त निदेशक पशुपालन एवं विकास अधिकारी पंचायत समिति बांसवाड़ा को क्रमशः सम्पूर्ण जुलूस के साथ समग्र निगरानी, शोभायात्रा के अग्र, मध्य एवं पीछे के भाग के साथ रहने की जिम्मेदारी दी गई है। इसके अलावा अलग-अलग क्षेत्रों के लिए जिला स्तरीय अधिकारियों को ड्युटी मजिस्ट्रेट नियुक्त किया गया है।
इसी प्रकार जिला मजिस्ट्रेट ने उक्त त्यौहारों के दौरान अन्य व्यवस्थाओं हेतु पुलिस अधीक्षक, अधिशासी अभियंता अजमेर विद्युत वितरण लि., उप मण्डलीय अभियंता भारत संचार निगम, आयुक्त नगर परिषद्, अधीक्षण अभियंता सार्वजनिक निर्माण विभाग, प्रमुख चिकित्सा अधिकारी, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी, अधिशासी अभिंयंता जलदाय विभाग को अपने-अपने विभागों से संबंधित व्यवस्थाएं सुनिश्चित करने की जिम्मेदारी दी गई है।
एक अन्य आदेश के अनुसार 9 सितम्बर को रात्रि 8 बजे से जुल्फिकार का जुलूस निकाला जाएगा जिसकी सलामी के पश्चात शहर के निर्धारित मार्गों से होते हुए वापस पृथ्वींगज पहुंचेगा तथा उसके पश्चात रात्रि लगभग 12 बजे मोहर्रम का जुलूस निर्धारित मार्ग से निकलकर वापस अपने-अपने मुकाम पर पहुंचेगा।
दूसरे दिन 10 सितम्बर को ताजियों का जुलूस निकाला जाएगा जो निर्धारित मार्गो से होकर राजतालाब  और डायलाब तालाब पर पहुंचेंगे जहां पर ताजियों का विसर्जन होगा।
इसी तरह खान्दू कॉलोनी, कुशलगढ़, ताम्बेसरा, सल्लोपाट, शेरगढ़, देलवाड़ा, भूंगड़ा, खमेरा, सवनिया, गढ़ी, परतापुर एवं अरथूना में भी ताजियों के जुलूस निकाले जाएंगे।
जिला मजिस्ट्रेट ने मोहर्रम  के दौरान लोकशांति एवं कानून व्यवस्था के लिए निर्धारित अलग-अलग स्थानों के लिए ड्युटी मजिस्ट्रेट नियुक्त किये हैं।
एक अन्य आदेश में 12 सितम्बर को बांसवाड़ा शहर में अनन्त चतुर्दशी पर गणेशजी की प्रतिमाएं जुलूस के रूप में अपने स्थानों से प्रातः 9 बजे निकलना प्रारंभ होगी जो मुख्य जुलूस के रूप में कलेक्ट्री चौराहा, पुराना बस स्टैण्ड, गांधीमूर्ति, पीपली चौक, सदर बाजार, आजाद चौक, गणपति चौक, कंधारवाड़ी, सिंधी कॉलोनी, रोडवेज बस स्टैण्ड एवं अम्बेडकर सर्किल होते हुए सायं डायलाब तालाब पर पहुंचेगी जहां पर इनका जलावतरण होगा। जिसके तहत शहर की सम्पूर्ण कानून व्यवस्था पर निगरानी तथा शोभायात्रा को शांतिपूर्ण सम्पन्न कराने की जिम्मेदारी अतिरिक्त जिला कलक्टर को सौपी गई है तथा जुलूस के साथ समग्र निगरानी, अग्र, मध्य एवं पीछे भाग के लिए अलग-अलग ड्युटी मजिस्ट्रेट नियुक्त किये गये हैं।


साभार :


© CopyRight Pressnote.in | A Avid Web Solutions Venture.