महान वैदिक धर्म प्रचारक रक्त-साक्षी प. लेखराम आर्यमुसाफिर”

( 5154 बार पढ़ी गयी)
Published on : 08 Feb, 19 02:02

महान वैदिक धर्म प्रचारक रक्त-साक्षी प. लेखराम आर्यमुसाफिर”

-मनमोहन कुमार आर्य, देहरादून।पं. लेखराम आर्यमुसाफिर के नाम से आर्यसमाज का प्रत्येक अनुयायी परिचित है। 6 मार्च, सन् 1897 को उनका लाहौर में वैदिक धर्म की वेदी पर बलिदान हुआ था। उनके बलिदान का कारण था कि वह वैदिक धर्म के प्रचारक तथा व आर्य हिन्दुओं के रक्षक थे। यदि अविभाजित पंजाब सहित कहीं किसी वैदिक धर्म के अनुयायी का धर्मान्तरण होता था तो पं. लेखराम जी वहां पहुंच कर धर्मान्तरण करने वाले अपने भाईयों को समझाते थे और उन्हें अपने धर्म की विशेषताये बताकर धर्मान्तरण न करने की प्रेरणायें करते थे। आपने सहस्रों लोगों को धर्मान्तरित होने से बचाया। वैदिक धर्म के इतिहास में आप सदैव अमर रहेंगे। पं. लेखराम जी का जन्म पंजाब के झेलम जिले के ग्राम सैदपुर में सारस्वत ब्राह्मण कुल में हुआ था। आपकी जन्म तिथि चैत्र महीने की सौर 8 तथा वर्ष विक्रमी 1915 है। आपके पिता का नाम महता तारासिंह था। बाल्यकाल में आपको केवल उर्दू व फारसी की शिक्षा प्राप्त हुई। आपकी यह शिक्षा आपके भावी जीवन में इस्लाम मत के ग्रन्थों का अध्ययन करने में काम आयी। अपने बाल्यकाल से आप कुशाग्र बुद्धि के बालक थे तथा उर्दू-फारसी में कविता लिखने की ओर आपका झुकाव था। आपके चाचा पंडित गंडाराम पुलिस विभाग में इंस्पेक्टर थे। उनके द्वारा आप पुलिस विभाग में सारजेन्ट के पद पर नियुक्त हुए। आप बचपन से ही धार्मिक प्रवृत्ति के थे और एकादशी का व्रत रखने के साथ गुरुमुखी भाषा में छपी गीता के श्लोकों का पाठ भी नियमित रूप से करते थे। आर्यसमाज के सम्पर्क में आने से पूर्व आप अद्वैतवाद अर्थात् जीव-ब्रह्म की एकता व समानता को मानते थे। आपमें वैराग्य का भाव तीव्र अवस्था में था। इन्हीं दिनों आपको लुधियाना के एक समाज सुधारक व धर्मप्रचारक पं. कन्हैयालाल अलखधारी के ग्रन्थों के अध्ययन का अवसर मिला। इससे आपको ऋषि दयानन्द और उनके समाज सुधार के कार्यों सहित वेद धर्म प्रचारार्थ आर्यसमाज की स्थापना का ज्ञान हुआ। आपने अजमेर से आर्यसमाज का साहित्य मुख्यतः सत्यार्थप्रकाश आदि ग्रन्थ मंगाकर पढ़े। इससे आपके विचार बदल गये और आप आर्यसमाज के अनुयायी व सदस्य बन गये। पं. लेखराम जी ने संवत् 1936 विक्रमी के अन्तिम भाग में सीमा प्रान्त के पेशावर नगर, जो मुस्लिम बहुल था, वहां आर्यसमाज की स्थापना की थी। पंडित लेखराम जी को धर्म विषय में कुछ शंकायें थी। इसके निवारण के लिये आपने महर्षि दयानन्द से मिलने का निश्चय किया। आप पुलिस की सेवा से एक महीने का अवकाश लेकर 17 मई, 1880 को पेशावर से अजमेर पहुंचे जहां ऋषि दयानन्द सेठ फतहमल की वाटिका में ठहरे हुए थे। इस स्थान पर आपने ऋषि दयानन्द के दर्शन किये तथा उनसे वार्तालाप वा शंका समाधान किया। यह आपकी ऋषि दयानन्द से पहली व अन्तिम भेंट थी।

स्वामी जी के दर्शन से आपके यात्रा के सभी कष्ट विस्मृत हो गये। ऋषि दयानन्द जी के सत्य उपदेश से आपके सभी संशय भी दूर हो गये। आपने ऋषि दयानन्द से 10 प्रश्न किये और उनके उत्तर सुने। इन उत्तरों से आपका समाधान हो गया। बाद में आप अपने 7 प्रश्नों व उनके ऋषि द्वारा दिए उत्तरों को भूल गये। शेष प्रश्नों व उनके उत्तरों को स्वयं प्रस्तुत किया है। आपकी पहली शंका थी कि ब्रह्म व आकाश दोनों सर्वव्यापक हैं। यह दोनों व्यापक पदार्थ एक ही स्थान पर एक साथ कैसे रह सकते हैं? महर्षि दयानन्द ने एक पत्थर उठाया और कहा कि जिस प्रकार इसमें अग्नि, मिट्टी और परमात्मा तीनों व्यापक हैं उसी प्रकार ब्रह्माण्ड में परमात्मा और आकाश भी व्यापक हैं। ऋषि ने कहा कि सूक्ष्म वस्तु में उससे भी सूक्ष्मतर वस्तु विद्यमान रहती है। ब्रह्म सूक्ष्मतर होने से सभी पदार्थों में सर्वव्यापक है। पं. लेखराम जी ने लिखा है कि ऋषि से यह समाधान सुनकर मेरी तृप्ति हो गई। ऋषि द्वारा अन्य प्रश्नों को पूछने की अनुमति देने पर उन्होंने 10 प्रश्न पूछे थे। उनमें से तीन प्रश्न व उनके समाधान उन्हें याद रहे, शेष 7 प्रश्न व उनके समाधान उन्हें विस्मृत हो गये थे। ऋषि से किये 3 प्रश्न व उनके उत्तर हैं, प्रश्न-जीव ब्रह्म की भिन्नता में कोई वेद का प्रमाण बतलाइये। उत्तर-यजुर्वेद का सारा चालीसवां अध्याय जीव और ब्रह्म का भेद बतलाता है। प्रश्न-अन्य मतों के मनुष्यों को शुद्ध करना चाहिए वा नहीं? उत्तर-अवश्य शुद्ध करना चाहिए। प्रश्न-विद्युत क्या वस्तु है और कैसे उत्पन्न होती है? उत्तर-विद्युत सब स्थानों में है और घर्षण वा रगड़ से पैदा होती है। बादलों की विद्युत भी बादलों और वायु की रगड़ से उत्पन्न होती है।

अजमेर से लौटकर पं. लेखराम जी ने ‘‘धर्मोपदेश” नाम के एक उर्दू मासिक पत्र का सम्पादन व प्रकाशन किया। इसके माध्यम से उन्होंने वैदिक धर्म के सत्यस्वरूप व उसकी महत्ता का पठित लोगों में प्रचार किया। इसके साथ ही आप मौखिक व्याख्यान भी दिया करते थे। इसी बीच पंडित लेखराम जी को किसी अन्य थाने में स्थानान्तरित कर दिया गया। इसके पीछे उनके अधिकारियों की उन्हें परेशान करने की मन्शा भी थी। पं. लेखराम जी ने इस समस्या से स्वयं को मुक्त करने के लिये 24 जुलाई सन् 1884 को पुलिस विभाग की सेवा से त्याग पत्र दे दिया। इससे उन्हें आर्यसमाज के काम उपस्थित होने वाली सभी बाधाओं से मुक्ति मिल गई और वह पूरा समय वैदिक धर्म के लिखित व मौखिक प्रचार में व्यतीत करने लगे। इस बीच उन्होंने मुस्लिम लेखकों के वैदिक धर्म पर आक्षेपों का उत्तर लिखना भी आरम्भ किया। वह धर्म प्रचारार्थ व ऋषि जीवन की घटनाओं के संग्रह के लिये अनेक स्थानों पर जाने लगे जिससे उनका नाम ‘आर्यपथिक वा आर्यमुसाफिर’ पड़ गया।

अहमदिया सम्प्रदाय के मुसलमानों के प्रवर्तक कादियां के मिर्जा गुलाम अहमद कादियानी ने एक पुस्तक ‘बुराहीन-ए-अहमदिया’ लिखी जिसमें आर्यसमाज पर कटु आक्षेप किये गये थे। पंडित लेखराम जी ने इस पुस्तक का उत्तर ‘तकजीव बुराहीन-ए-अहमदिया’ नामक ग्रन्थ लिख कर दिया जो अकाट्य तर्कों से पुष्ट था। मिरजा ने दूसरी आक्षेपात्मक पुस्तक ‘सुर्म-ए-चश्म आरिया’ लिखी जिसका उत्तर पंडित जी ने ‘नुस्ख-ए-खब्त अहमदिया’ लिखकर दिया। मिरजा ने यह घोषणा भी की थी कि उसके पास ईश्वर के दूत सन्देश लाते हैं। वह अलौकिक चमत्कार दिखला सकता है। वह अपने ईश्वर से प्रार्थना कर एक वर्ष के भीतर किसी भी मनुष्य को मरवा सकता है। पं. लेखराम जी ने मिरजा की इन सब बातों का कादियां जाकर खण्डन किया व उसे निरुत्तर कर दिया। इस विवाद के बढ़ने से कुछ समय बाद पं. लेखराम जी की हत्या हुई और वह धर्म की वेदी पर बलिदान हो गये।

पंडित जी धर्म रक्षा के कार्य को करने के लिए हर क्षण तत्पर रहते थे। कहीं धर्मान्तरण व शास्त्रार्थ की आवश्यकता हो तो पं. लेखराम जी उत्साहपूर्वक वहां पहुंचते थे और अपनी सारी शक्ति लगा देते थे। पं. लेखराम जी की विद्वता व वाक्पटुता का लोहा उनके सभी विरोधी मानते थे। वह अपनी युक्तियों से बड़े-बड़े मौलवियों तथा पादरियों को निरुत्तर कर देते थे। पादरियों का व्यवहार उनके प्रति बहुत अधिक कटु नहीं होता था। मुस्लिम विद्वान अपनी कट्टरता और तात्कालीन उत्तेजना का प्रदर्शन करते हुए मोहम्मदी तलवार की धमकियां देते थे। ऐसे आक्रमणों से पंडित जी कभी नहीं घबराये। उन्हें दी जाने वाली धमकियां का उत्तर वह यह कह कर दिया करते थे कि संसार में धर्म शहीदों के रुधिर से ही फूले फले हैं और मैं अपनी जान हथेली पर लिये फिरता हूं। पंडित जी ने बहुत से सनातनधर्मी सम्भ्रान्त व समृद्ध कुलों के युवकों को धर्मभ्रष्ट होने से बचाया था। मुजफफरनगर जिले के जाट रईस चौ. घासीराम और सिन्ध के रईस दीवान सूरज मल व उनके दो पुत्रों को भी उन्होंने धर्म भ्रष्ट होने से बचाया।

आर्यपथिक पंडित लेखराम जी एक निःस्पृह, साधु, त्यागी और सन्तोषी प्रवृत्ति के ब्राह्मण थे। आर्य प्रतिनिधि सभा, पंजाब से वह मात्र 25 रुपये लेकर रात दिन वैदिक धर्म की सेवा में व्यस्त रहते थे। बाद में उनका मासिक वेतन रात दिन उनके पुरुषार्थ को देखकर बिना उनके कहे 25 से बढ़ाकर 35 रुपये कर दिया गया था। उनका गृहस्थ जीवन सभी उपदेशकों व ब्राह्मण वर्णस्थ बन्धुओं के लिए अनुकरणीय था व है। पंडित जी शास्त्र पर्णित रुद्रसंज्ञक ब्रह्मचारी की अवस्था को प्राप्त करके 36 वर्ष की आयु में विक्रमी संवत् 1950 के ज्येष्ठ महीने में मरी पर्वत के ‘भन्न ग्राम’ की निवासी कुमारी लक्ष्मी देवी जी के साथ विवाह किया था। विवाह के बाद आपने अपनी पत्नी को पढ़ाना आरम्भ कर दिया था। ग्रीष्म काल विक्रमी संवत् 1952 में उन्हें एक पुत्र रत्न की प्राप्ति हुई जिसका नामकरण संस्कार वैदिक रीति से हुआ और बालक का नाम ‘सुखदेव’ रखा गया। पंडित जी वैदिक धर्म प्रचार में इतने व्यस्त हो जाते थे कि उन्हें अपनी पत्नी व पुत्र का ध्यान नहीं रहता था। वह चाहते थे कि उनकी धर्मपत्नी श्रीमती लक्ष्मीदेवी जी उपदेशिका बनकर उनके साथ धर्मप्रचार करें। इसलिये वह अपनी पत्नी व पुत्र को भी धर्म प्रचारार्थ साथ में ले जाने लगे। उनका पुत्र बहुत छोटा था। वह यात्रा के कष्टो को सहन नहीं कर सका और रुग्ण होकर डेढ़ वर्ष की अवस्था में मृत्यु को प्राप्त हो गया। पंडित जी ने धैर्य से इस पुत्र वियोग के दुःख को सहन किया और वैदिक धर्म का प्रचार निरन्तर करते रहे।

महर्षि दयानन्द का 30 अक्टूबर सन् 1883 को अजमेर में बलिदान हो गया था। उनका सर्वांगपूर्ण जीवन चरित लिखे जाने की आवश्यकता अनुभव की जा रही थी। यह दायित्व आर्य प्रतिनिधि सभा, पंजाब ने पंडित लेखराम जी को दिया। पंडित जी ने उन सभी स्थानों पर जाकर जहां-जहां ऋषि दयानन्द जी गये थे, उनके जीवन की घटनाओं का अन्वेषण किया और जिन पुरुषों का ऋषि से वार्तालाप तथा उपदेशों आदि में साक्षात्कार हुआ था, उनसे मिलकर उनके बताये वर्णनों को उन्हीं के शब्दों में लिखवा कर संग्रह किया। पं. लेखराम जी ने ऋषि जीवन ग्रन्थ की पूरी सामग्री एकत्र कर ली और जीवन चरित का लेखन आरम्भ किया। इससे पूर्व की वह पूरा जीवन चरित लिख पाते एक आततायी मुस्लिम युवक ने उनकी हत्या कर दी। ऋषि की मृत्यु तक का वृतान्त वह पूरा लिख चुके थे। पं. लेखराम जी द्वारा संग्रहित सामग्री व उनकी लेखनी से लिखा गया यह ऋषि जीवन चरित्र आर्यसमाज में ऋषि दयानन्द का सर्वोत्तम जीवन चरित है। ऋषि के छोटे बड़े एक दर्जन से अधिक जीवन चरित्र उपलब्ध हैं परन्तु अनेक कारणों से इस ग्रन्थ का महत्व सर्वाधिक है। आर्य विद्वान पं. भवानी प्रसाद जी ने लिखा है ‘‘पण्डित लेखराम जी संगृहीत महर्षि दयानन्द की जीवनी में साक्षियों के शब्द-प्रतिशब्द-मौलिक और लिखित वर्णन ऐतिहासक दृष्टि से बड़े बहुमूल्य हैं। उन से ऐतिहासिक अन्वेषक को ऊहापोहपूर्वक पक्षपात रहित सत्य पर पहुंचने में बड़ी सहायता मिलती है।” पंडित भवानी प्रसाद ने पं. लेखराम जी के विषय में यह भी महत्वपूर्ण जानकारी दी है ‘मोहम्मदी लोग पण्डित लेखराम से पहले ही से द्वेष रखते थे। उन्होंने उन पर दिल दुखाने और अश्लील लिखने के कई अभियोग मिरजापुर, प्रयाग, लाहौर, मेरठ, दिल्ली, बम्बई की फौजदारी अदालतों में दायर किये थे, किन्तु न्यायाधीशों ने पण्डित जी के लेखों में कोई बात भी आक्षेपयोग्य न पाकर उन की तलबी किये बिना ही उन सब अभियोगों को खारिज कर दिया। इससे मुसलमान (पंडित लेखराम जी से) और भी अधिक चिढ़ गये और धर्मवीर पर उन के रोष की सीमा न रही। उनकी ओर से पण्डित जी को वध की धमकियां आए दिन मिलने लगीं किन्तु पण्डित लेखराम भय का नाम ही न जाते थे। .... आर्यपुरुषों के सावधान करते रहने पर भी उन्होंने कभी अपनी रक्षा का प्रयत्न नहीं किया।’

पंडित जी के बलिदान की घटना का विवरण भी हम पं. भवानी प्रसाद जी के शब्दों में प्रस्तुत करना चाहते हैं। वह लिखते हैं ‘अन्त को फरवरी सन् 1897 के मध्यभाग में एक काला, गठीले बदन का, नाटा मुसलमान युवक उन के पास आया और उन से अपने आप को हिन्दू से मुसलमान बना हुआ बतलाकर उस ने अपने शुद्ध किये जाने की प्रार्थना की। धर्मवीर तो पतितों के उद्धार और शुद्धि के लिए प्रत्येक क्षण कटिबद्धरहते थे। उन्होंने उस को प्रेमपूर्वक अपने पास बिठलाया और धर्मोपेदश देना प्रारम्भ किया। इस मनुष्य की आंखों में भयंकरता बरसती थी। कई पुरुषों ने उन को उस से सुरक्षित रहने के लिए भी चेतावनी दी थी किन्तु उन्होंने उस पर कुछ भी कान न दिया और उस को धर्मजिज्ञासु कह कर अपने हितैषियों की बात टालते रहे। एक दिन सायंकाल के समय उसी दुष्ट मुसलमान युवक ने अंगड़ाई लेते हुए पण्डित जी के उदर में, जब कि वे महर्षि दयानन्द जी की जीवनी में उन की परमपद-प्राप्ति के वर्णन का अध्याय अभी-अभी लिख कर उठे थे, कटारी भौंक दी, जिस से उन की आंतों में आठ मारक घाव लगे और उन से आधी रात तक बराबर रुधिर का प्रवाह बहता रहा। डाक्टर पेरी, सिविल सर्जन (लाहौर) के घावों को, दो घण्टे तक सीते रहने पर भी पण्डित जी न बच सके और उन्होंने फाल्गुन सुदि 3, संवत् 1953 विक्रमी तदनुसार 6 मार्च 1897 ई. को रात्रि के 2 बजे अपने नश्वर शरीर को वैदिक धर्म पर बलिदान कर दिया। प्राण त्यागने से पूर्व तक उन की चेतना में तनिक भी अन्तर नहीं आया। वे बराबर ‘‘ओ३म् विश्वानि देव सवितर् .....’’ इत्यादि और गुरु मन्त्र का पाठ करते रहे। उस समय उन को न घरवालों की चिन्ता थी, न घातक पर अप्रसन्नता और न मौत का डर था।” पंण्डित जी ने प्राण त्यागने से पूर्व अपने सहधर्मी मित्रों को अन्तिम आदेश यह दिया ‘‘आर्यसमाज से लेख का काम बन्द नहीं होना चाहिए।”

पंडित जी ने प्राणपण से वैदिक धर्म और आर्यसमाज के सिद्धान्तों का प्रचार प्रसार किया और इसी के लिये अपने प्राणों की आहुति भी दी। पण्डित जी के अन्तिम संस्कार में लाहौर में तीस हजार लोगों ने अपने अश्रुपूरित नेत्रों से उन्हें श्रद्धांजलि दी थी। पंडित लेखराम जी के गुण, कर्म व स्वभाव का वर्णन करते हुए पं. भवानी प्रसाद जी ने कहा है कि वह अत्यन्त त्यागी, सरल स्वभाव, प्रतिज्ञा पालन के पक्के, तेजस्वी, मन्युप्रवण, आर्य सिद्धान्त के अटल विश्वासी, अकुतोभय, वाक्पटु, सुलेखक और आदर्श धर्मप्रचारक थे। उनके रक्तबिन्दु पृथिवी पर व्यर्थ नहीं गिरे। उन्होंने सोमनाथ, वजीरचन्द, मथुरादास, तुलसीराम, सन्तराम, योगेन्द्रपाल, जगतसिंह आदि अनेक धर्माग्नि से प्रज्वलित हृदय वाले भावुक धर्मोपदेशक उत्पन्न किये थे और आशा है कि वे आगे भी ऐसे ही अदम्य उत्साह से परिपूर्ण प्रचारकों को जन्म देते रहेंगे। इसी के साथ इस लेख को विराम देते हुए पं. लेखराम जी के बलिदान पर हम उन्हें अपनी श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं। ओ३म् शम्।


साभार :


© CopyRight Pressnote.in | A Avid Web Solutions Venture.