खेल से मानसिक, आर्थिक एवं शारीरिक शक्ति प्राप्त होती है - प्रो. सारंगदेवोत

( 3587 बार पढ़ी गयी)
Published on : 06 Feb, 19 04:02

खेल से मानसिक, आर्थिक एवं शारीरिक शक्ति प्राप्त होती है - प्रो. सारंगदेवोत

उदयपुर / जनार्दनराय नागर राजस्थान विद्यापीठ (डीम्ड टू बी विश्वविद्यालय) के संघटक होम्यापैथिक चिकित्सा महाविद्यालय के तीन दिवसीय इण्टर क्लॉस खेल प्रतियोगिता के अन्तर्गत मगंलवार को फिल्ड क्लब ग्राउण्ड पर क्रिकेट प्रतियोगिता का उद्घाटन कुलपति कर्नल प्रो. एस.एस. सारंगदेवोत ने किया। प्रो. एस.एस. सारंगदेवोत ने कहा कि किसी को भी अपने मानव जीवन को सफल बनाने के लिए तीन शक्तियों की बहुत जरूरत होती है वो है मानसिक, आर्थिक एवं शारीरिक और इन तीनों शक्तिों को हम प्राप्त करना है तो हमें खेल से जुड़ना पडेगा। हम कितना ही क्यों न पड़े ले हमारे जीवन में कोई न कोई चीज अधुरी रह जाती है। इसलिए हम खेल से जुड़ते है तो ये तीनों शक्तियां हमें आसानी से मिल सकती है। इसलिए खेलों का  हमारे जीवन में महत्वपूर्ण योगदान है। खेल प्रभारी धीरेन्द्र सिंह सिसोदिया ने बताया की प्रथम मैच प्रथम वर्ष एवं द्वितीय वर्ष के छात्रों के बीच में हुआ जिसमें प्रथम वर्ष के छात्र विजयी रहे तथा द्वितीय मैच चतुर्थ वर्ष एवं द्वितीय वर्ष के बीच हुआ जिसमें द्वितीय वर्ष के छात्र विजयी रहे। इस अवसर पर डॉ. दिलीप सिंह चौहान, सहायक आचार्य, शारीरिक शिक्षा, डॉ. अमिया गोस्वामी, प्राचार्य, डॉ. बबीता रशीद, डॉ. नवीन विश्नोई, डॉ. प्रखर गुप्ता आदि उपस्थित थे।      


साभार :


© CopyRight Pressnote.in | A Avid Web Solutions Venture.