विद्यालय में कन्या पूजन कार्यक्रम का आयोजन ‘‘

( 3726 बार पढ़ी गयी)
Published on : 19 Oct, 18 04:10

विद्यालय में कन्या पूजन कार्यक्रम का आयोजन ‘‘ डाबला| स्थानीय राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय, डाबला में आज महानवमी के दिन विद्यालय की कन्याओं का पूजन कार्यक्रम आयोजित कर बालिकाओं को शिक्षित करने एवं समाज एवं देशहित में नारी-शक्ति के योगदान को बताने का प्रयास किया गया, जिसमें मुख्य अतिथि डॉ. सूमन रावलोत, प्रांतीय संयोजिका, राष्ट्रीय सेविका समिति एवं विशिष्ठ अतिथि सुश्री रितु शर्मा, क्षेत्रीय प्रचारिका राष्ट्रीय सेविका समिति, डॉ. दामोदर खत्री, चिकित्सा अधिकारी जवाहित चिकित्सालय, श्री अमृतलाल दैया, प्रांतीय मंत्री विद्या भारती एवं श्री हीरालाल साधवानी थे। कार्यक्रम का प्रारम्भ प्रधानाचार्य श्री राजेश कुमार व्यास एवं मुख्य अतिथि डॉ. सूमन रावलोत, विशिष्ट अतितिथयों एवं विद्यालय परिवार द्वारा विद्यालय की बालिकाओं का पूजन कर एवं सभी बालिकाओं को भोजन (खीर-पूडी) करवाकर किया गया। तत्पश्चात् अतिथियों का स्वागत पुष्पमाला से किया गया। कार्यक्रम को आगे बढाते हुये विद्यालय की होनहार छात्राओं को पुरस्कृत किया गया। डॉ. सूमन कंवर द्वारा अपने उद्बोधन में कहा गया कि ‘‘भारतीय परम्परा में नारी शक्ति का रूप हैं। नारी सृष्टि सृजनकर्ता हैं तथा समस्त विद्यार्थियों को संस्कारवान बनकर नारी शक्ति को आगे बढाने में सहयोग करने का आह्वान किया तथा उपस्थित सभी बालिकाओं से जीवन में सभी क्षेत्रों में बुलंदियों को छूने एवं निरन्तर प्रगतिशील रहने का संकल्प दिलाया गया। साथ ही डॉ. रावलोत द्वारा बालिकाओं को प्रोत्साहित करने हेतु रणथम्भौर दुर्ग की रक्षा बेटियों द्वारा किये जाने का प्रसंग सुनाया गया तथा संस्थाप्रधान द्वारा इस प्रकार के कार्यक्रम आयोजित करने की सराहना की गयी।‘‘
संस्थाप्रधान श्री राजेश कुमार व्यास द्वारा अपने उद्बोधन में नारी शक्ति की समाज एवं देश में भूमिका से अवगत कराते हुये कन्या पूजन कार्यक्रम की महता से सभी को अवगत करवाया गया तथा भारतीय संस्कृति में नारीत्व एवं शक्ति रूपों पर प्रकाश डाला गया तथा सभी विद्यार्थियों को सुशिक्षित, संस्कारवान एवं चरित्रवान बनने की प्रेरणा दी गयी।
कार्यक्रम के अंत में श्रीमती मधुबाला पुरोहित द्वारा कार्यक्रम में उपस्थित सभी अतिथियों एवं ग्रामवासियों को कार्यक्रम के सफल आयोजन हेतु आभार व्यक्त किया गया। कार्यक्रम संचालन श्री भैराराम लीलड, व्याख्याता द्वारा किया गया।



साभार :


© CopyRight Pressnote.in | A Avid Web Solutions Venture.