कांकरोली थाने में एफआईआर दर्ज नहीं करने पर न्यायालय से गुहार

( 3349 बार पढ़ी गयी)
Published on : 07 Sep, 18 11:09

कांकरोली थाने में एफआईआर दर्ज नहीं करने पर न्यायालय से गुहार राजसमंद | धोइंदा के समीप रिको एरिया इंडस्ट्रीज में व्यावसायिक प्रतिष्ठान के लिए 5 साल के लिए किराए के भवन देने के बाद बदलने और मारपीट कर सामान फेंकने के मामले में न्यायालय विशिष्ट न्यायाधीश (एससी-एसटी एक्ट केसेज) सेशन न्यायालय ने आरोपियों के खिलाफ प्रसंज्ञान लिया। मामले में न्यायालय जाने से पहले परिवादी ने कांकरोली थाना पुलिस में रिपोर्ट दी थी, लेकिन एफआईआर दर्ज नहीं की। इस संबंध में न्यायालय विशिष्ट न्यायाधीश (एससी-एसटी एक्ट केसेज) सेशन न्यायालय के पीठासीन अधिकारी देवेंद्र जोशी ने प्रसंज्ञान लिया। मामले में मनीष देवी पुत्र रोशनलाल खटीक और उनकी पत्नी गंगादेवी ने आरोपी नाथद्वारा निवासी प्रमोद कुमार पुत्र रमणलाल गुर्जर, नाथद्वारा में जाट मोहल्ला निवासी युवराज सिंह पुत्र शांतिलाल चौधरी, कांकरोली में आशीर्वाद मार्केट निवासी बृजेश पाटीदार, गंगापुर हाल रीको इंडस्ट्रीयल एरिया राजू सुराणा और आलोक जैन के खिलाफ न्यायालय में प्रार्थना पत्र पेश किया। परिवादी ने विपक्षी प्रमोद कुमार से रीको इंडस्ट्रीयल एरिया स्थित व्यावसायिक परिसर में अपने व्यावसायिक प्रतिष्ठान के नाम से 16 अगस्त 2016 को किराए पर लिया और उसमें निर्माण करवाने के साथ मशीनरी लगवाई। इसमें करीब साढ़े सोलह लाख रुपए खर्च हुए। प्रमोद गुर्जर ने पहले पांच साल तक के लिए भवन किराए के लिए करार किया था, लेकिन बाद में दबाव बनाकर 11 माह का इकरार किया। इसके बाद परिवादी ने व्यवसाय के लिए इस भवन में 45 लाख रुपए का खर्चा कर दिया।
साभार :


© CopyRight Pressnote.in | A Avid Web Solutions Venture.