विजयेन्द्र एवं आस्था सक्सेना के गायन से श्रोता मंत्रमुग्ध हुए

( 1790 बार पढ़ी गयी)
Published on : 12 Aug, 18 04:08

डॉ.प्रभात कुमार सिंघल

 विजयेन्द्र एवं आस्था सक्सेना के गायन से श्रोता मंत्रमुग्ध हुए कोटा | श्री करणी नगर विकास समिति के आश्रय भवन में संगीतरत्न रामरंग एवं स्वामी पागलदास जयंति पर आयोजित प्रभात संगीत सभा एवं कला समय, भोपाल एवं संगीतिका कोटा के संयुक्त तत्वावधान में सुप्रभात संगीत-सभा में भट्ट परम्परा के गायक डाॅ. विजयेन्द्र गौतम एवं सी.सी.आर टी स्काॅलर गायिका आस्था सक्सेना का शास्त्रीय गायन से श्रोता झूम उठे।
मुख्य अतिथि डाॅ. अनीता गुप्ता, प्राचार्य कला कन्या महाविद्ययालय, कोटा ने दीप-प्रज्वलित किया व पण्ड़ित रामाश्रय झा रामरंग एवं मृदंगाचार्य स्वामी पागलदास जी के जीवन चरित्र पर प्रकाश डाला व ऐसे शास्त्रीय संगीत के आयोजन हमेंशा आयोजित करने की प्रेरणा दी। ताकि शास्त्रीय संगीत के विद्यार्थियों को मंच मिले जिससे युवा पीढ़ी मार्गदर्शन लेकर लाभान्वित हो सके।
. संगीत सभा के आंरभ में आस्था सक्सेना ने वर्षा ऋतु मेँ गाये जाने वाले राग मिया मल्हार, गौड़ मल्हार, शुद्ध मल्हार, में गुरूवर पंण्ड़ित रामरंग की मंत्रमुग्ध करने वाली सुरीली बंदिशों का गायन कर सुधी श्रोताओं को रस विभोर कर दिया इनके साथ तबले पर श्री देवेन्द्र सक्सेना ने साथ दिया।
. आकाशवाणी दूरदर्शन के प्रथम श्रेणी की कलाकार डाॅ. विजयेन्द्र गौतम ने प्रातःकालीन राग नटभैरव में एकताल में, विलम्बित खयाल तथा तीन ताल छोटा ख्याल व तराना एक ताल में प्रस्तुत कर श्रोताओं को मंत्र-मुग्ध कर दिया। आपने अपने गायन का समापन स्वंय के द्वारा कम्पोज भजनों से कर भक्ति रस की धारा से श्रोताओं को आनंदित कर दिया। इनके साथ तबले पर घनश्याम राव हारमोनियम पर पंजाब के अनमोल ने तथा तानपूरा पर शुभांगी सिंह ने सधी हुई संगत की।
अंत में संस्था संयोजिका प्रसन्न भण्डारी, संगीतज्ञ पं. गोहदकर, संगीत विदूषी सुधा अग्रवाल, महेश शर्मा एवं श्रीमती प्रेरणा शर्मा ने डाॅ. विजयेन्द्र गौतम, सुश्री आस्था सक्सेना सहित सभी कलाकारो को माला व शाॅल पहनाकर सम्मानित किया। कार्यक्रम का संचालन संगीतिका सचिव श्री चंद्र मोहन सक्सेना ने किया व आभार श्रीमती संगीता सक्सेना ने व्यक्त किया।  

साभार :


© CopyRight Pressnote.in | A Avid Web Solutions Venture.