logo

8 फरवरी को दवा खाने से छूटे बच्चों को

( Read 1242 Times)

15 Feb, 18 11:12
Share |
Print This Page
कोटा । बच्चों को पेट के कृमि संक्रमण से निजात दिलाने के लिए जिले में 8 फरवरी को मनाए गए कृमि मुक्ति दिवस पर जो बच्चे किसी कारणवश बीमार होने या अनुपस्थित रहने के चलते कृमिनाशक दवा एल्बेंडाजोल नही खा सके थे, उन छूटे हुए 1 से 19 वर्ष तक के बच्चों को गुरूवार को मॉप-अप दिवस पर यह दवा निःशुल्क खिलाई जाएगी। आरसीएचओ डॉ महेन्द्र त्रिपाठी ने बताया कि 8 फरवरी को राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस पर जिले भर में स्कूल, मदरसों एवं आंगनबाड़ी केंद्रांे पर बच्चों को पेट के कीड़े खत्म करने वाली कृमिनाशक दवा खिलाई गई थी। लेकिन जो बच्चे उस दिन दवा खाने से छूट गए थे उन्हे गुरूवार, 15 फरवरी को मॉप-अप दिवस पर यह दवा खिलाकर सभी को कृमि संक्रमण से मुक्ति दिलाई जाएगी। उन्होने बताया कि कृमि पेट की आंत में रहकर शरीर के जरूरी पोषक तत्व खा जाते हैं जिसके कारण बच्चों मे खून की कमी होने के साथ कुपोषण में वृद्धि और शारीरिक एवं मानसिक विकास पर नकारात्मक असर पड़ता है। जिससे भविष्य में उनकी कार्यक्षमता और औसत आयु में कमी आती है। इस दवा के सेवन से बच्चों में खून की कमी और चिडचिडापन की समस्या खत्म हो सकेगी, तथा उन्हे बेहतर पोषण मिल पायेगा साथ हीं रोग प्रतिरोधक क्षमता में भी वृृद्वि हो सकेगी। उन्होने बताया कि 1 से 2 वर्ष तक के बच्चे को ऐल्बेण्डाजोल 400 एमजी की आधी गोली तथा 2 से 19 साल तक के बच्चे को 1 गोली चबाकर खिलवाई जाएगी। उन्होने बताया कि कृमि नाशक गोली का कोई साइड इफेक्ट नही होता है, दवा से पेट के कृमि मरते हैं इसलिए कुछ बच्चों में जी मिचलाना, उल्टी या पेट दर्द जैसे सामान्य छुट-पुट लक्षण दिखाई दे सकते हैं लेकिन ये सामान्य व अस्थाई हैं
Source :
This Article/News is also avaliable in following categories : Kota News
Your Comments ! Share Your Openion

You May Like