logo

रेखा की जिदगी का सबसे भावुक पल

( Read 8600 Times)

11 Oct 17
Share |
Print This Page
 रेखा की जिदगी का सबसे भावुक पल मुंबईं,। सदाबहार एक्ट्रेस रेखा का जीवन रहस्य से कम नहीं है। उनके बारे में न जाने कितनी कहानियां गढ़ी गईं। ढेर चर्चाएं और उनमें अफवाह भी अनगिनत। उनके नाम से ढेर सारे विवाद। कईं आज भी रेखा के पीछे लगे हैं। जैसे वो सिदूर क्यों लगाती हैं। इस एक्ट्रेस के करियर और जीवन को लेकर असंख्य रिपोट्र्स प्रकाशित हुईं हैं। उनसे गजरते हुए कईं बार यह महसूस होता है कि ये एक्ट्रेस अपने जीवन में संघर्षो और बेइंतहा दर्द से होकर गु़जरी है।

यासीर उस्मान की किताब ’रेखा:एन अनटोल्ड स्टोरी’ में उनकी जीवन के कईं अनछुए किस्से हैं। दावा है कि यह उनके जीवन का सटीक दस्तावेज है। हालांकि इस किताब में कही बातों की सच्चाईं पर भी सवाल उठे हैं। रेखा का जन्म 10 अक्टूबर, 1954 को चेन्नईं में हुआ था। उनका असली नाम भानुरेखा गणेशन है। वह साउथ इंडियन फिल्मों के एक्टर जेमिनी गणेशन और तेलुगु एक्ट्रेस पुष्पावली की बेटी हैं। कहा जाता है कि रेखा का जब जन्म हुआ, उनके माता-पिता की शादी नहीं हुईं थी।

उनका बचपन संघर्ष भरा रहा है।

उनके पिता ने कभी उनकी परवाह नहीं की। पिता ने कभी रेखा को अपना नाम नहीं दिया। कहा यह भी जाता है कि रेखा के पिता ने चार शादियां की थीं, लेकिन रेखा की मां से कभी शादी नहीं की। यह भी कहा जाता है कि पिता के इसी व्यवहार की वजह से रेखा उनसे बेइंतहा नफरत थीं। इतनी कि वो उनके अंतिम संस्कार में भी नहीं गईं। पिता जेमिनी गणेशन के साथ रेखा की जिदगी का सबसे भावुक क्षण भी दुनिया ने देखा था। यह ऐसा मौका था जब सार्वजनिक मंच पर पिता-पुत्री का मिलन हुआ था और दोनों रो पड़े थे। यह वाकया 1994 में 41वें फिल्म पेयर अवॉर्ड के दौरान का है। जेमिनी गणेशन को लाइफटाइम अवॉर्ड दिया जा रहा था। जेमिनी को तमिल सिनेमा में ’किग ऑ़फ रोमांस’ माना जाता था। ़खास बात यह थी कि जेमिनी को ये अवॉर्ड किसी और नहीं बल्कि रेखा के हाथों ही मिला। अनाउंसमेंट के बाद रेखा पिता को अवॉर्ड देने मंच पर आईं। उन्होंने पहले पिता के पैर छुए फिर उन्हें अवॉर्ड दिया। इस दौरान दोनों बाप-बेटी की आंखों से आंसुओं का समंदर बह निकला। जैसे दोनों की आंखों से सालों का दर्द बह रहा था।

ये अवॉर्ड सेरेमनी मद्रास में आयोजित था। रेखा का बचपन आर्थिक तंगी में गुजरा। रेखा को बेहद कम उम्र में काम करना पड़ा। शुरुआती दिनों में उन्होंने तेलुगु की बी और सी ग्रेड फिल्मों में भी काम किया। रेखा ने बॉलीवुड में करीब 4 दशक तक काम किया। अमिताभ के साथ उनकी जोड़ी सुपरहिट मानी गईं। महज 15 साल की उम्र में उन्होंने ’अनजाना सफर’ से बॉलीवुड में डेब्यू किया था।

यह दर्द उन्हें महज 15 साल की उम्र में झेलना पड़ा। फिल्म ’अनजाना सफर’की शूटिग के दौरान एक रोमांटिक गाने के शूट के लिए रेखा सेट पर पहुंची थीं। जैसे ही डायरेक्टर ने एक्शन बोला फिल्म के हीरो बिस्वजीत ने उन्हें होठों पर किस करना शुरू कर दिया। ये किस 5 मिनट तक चलता रहा। इस दौरान वैमरा लगातार रोल होता रहा। डायरेक्टर ने कट नहीं बोला। यूनिट के सदस्य सीटियां मार रहे थे। यह किसिग सीन काफी समय तक सरुखियों में बना रहा। इस पर सेंसर बोर्ड ने वैंची चलाने की कोशिश की थी। जिसके बाद यह मामला कोर्ट तक पहुंच गया था।
Source :
This Article/News is also avaliable in following categories : Headlines
Your Comments ! Share Your Openion

You May Like