logo

सीटीएई के इनोवेटर को राष्ट्रपति भवन में केन्द्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री हर्षवर्धन ने पुरूस्कार से नवाजा

( Read 19054 Times)

23 Mar 18
Share |
Print This Page

सीटीएई के इनोवेटर को राष्ट्रपति भवन में केन्द्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री हर्षवर्धन ने पुरूस्कार से नवाजा सीटीएई के टेक्नोलोजी बिजनेस इन्क्यूबेशन सेंटर के इनोवेटर नारायण लाल गुर्जर, शशिप्रताप सिंह, (द्वितीय वर्ष कृषि अंभियांत्रिकी) अंकित जैन (प्रथम वर्ष कृषि अभियांत्रिकी) को राष्ट्रपति भवन में राष्ट्रपति की उपस्थिति में माननीय श्री हर्षवर्धन केन्द्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग द्वारा सम्मानित किया गया। यह पुरूस्कार गुर्जर एवं उसकी टीम को उनके द्वारा विकसित ‘इको फ्रेंडली वाटर रिटेंशन नेचुरल पॉलीमर‘‘ बनाने के लिये दिया गया है जो कि गांधीयन यंग टेक्नोलोजी इनोवेशन २०१८ के तहत् दिया गया है। जिसमें नारायण लाल गुर्जर एवं उसकी टीम सबसे कम उम्र के इनोवेटर थे। पूरे प्रदेश में इस पुरूस्कार के लिए केवल नारायण लाल गुर्जर टीम को ही आमंत्रित किया गया था। टेक्नोलोजी बिजनेश इन्क्यूबेशन के समन्वयक एवं इस प्रोजेक्ट के गाईड डॉ. एस एम माथुर ने बताया कि किसानों के सामने सबसे बडी समस्या पानी को अधिक से अधिक समय के लिए उपयोग करना है। सीटीएई के इनोवेटर ने इस समस्या के समाधान के लिए इकोफे्रंडली वाटर रिटेंशन पॉलीमर का वेस्ट चीजों से निर्माण किया है। जिससे इस समस्या से मुक्ति मिल सकेगी। डा. माथुर ने बताया कि यह पॉलीमर प्राकृतिक, वेस्ट पदार्थो से बना है एवं इसकी लागत बाजार में उपलब्ध रासायनिक पॉलीमर से बहुत कम है। इसको किसान आसानी से खरीद सकते है। डा. माथुर ने बताया कि यह अवार्ड उन्ही व्यक्तियों को दिया जाता है जिनके अविष्कार समाज के लिए बहुत उपयोगी होते है एवं इनको गवर्मेंट पॉलीसी के साथ जोडा जा सकता है। इसी क्रम के अन्तर्गत नारायण लाल गुर्जर एवं उसकी टीम के साथियों को राष्ट्रपति भवन में २० मार्च को राष्ट्रपति के सेक्रेटरी ने राष्ट्रपति भवन में एक मिटींग मे आमंत्रित किया एवं इस नवाचार को बहुत सराहा एवं भविष्य के लिए बहुत उपयोगी बताया। नारायण लाल गुर्जर द्वारा दिये गये सुझावों को आने वाले समय में कृषि मंत्रालय द्वारा जारी होने वाली पॉलीसी में सम्मिलित किये जाने के बारें में निर्देश दिये गये। महाराणा प्रताप कषि एवं प्रौद्यगिकी विश्वविद्यालय के कुलपति माननीय उमाशंकर शर्मा एवं सी टी ए ई के अधिश्ठाता डॉ. एस. एस. राठौड ने विश्वविद्यालय के लिए इसे सीटीएई के टेक्नोलोजी बिजनेस इन्क्यूबेशन सेंटर की बहुत बडी उपलब्धि बताया एवं डा. माथुर एवं नारायण लाल गुर्जर और उसकी टीम को ढेर सारी बधाईंय दी ।


Source :
This Article/News is also avaliable in following categories : Education
Your Comments ! Share Your Openion

You May Like