logo

बी.एस.सी. एवं एम.एस.सी. विद्यार्थियों को देंगे स्किल प्रषिक्षण

( Read 1702 Times)

02 Dec 18
Share |
Print This Page
बी.एस.सी. एवं एम.एस.सी. विद्यार्थियों को देंगे स्किल प्रषिक्षण उदयपुर- इण्डियन रबर इन्स्टीट्यूट, क्वालिटी काउंसिल फोरम ऑफ़ इण्डिया तथा जे. के. टायर्स एण्ड इण्डस्ट्रीज लिमिटेड कांकरोली के तत्वावधान में शनिवार को विद्या भवन में बीएससी तथा एमएससी विद्यार्थियों के लिए रबर स्किल डवलपमेन्ट पाठ्यक्रम का शुभारंभ हुआ।

मुख्य अतिथि इण्डियन रबर इन्स्टीट्यूट के अध्यक्ष डा. आर. मुखोपाध्याय ने कहा कि रबर से जुड़े समस्त उद्योंगो में रोजगार की बहुत मांग है। राजस्थान सहित पूरे देष में साधारण रबर बेंड से लेकर टायर तक रबर के विविध उत्पाद बनाने की अनेक प्रतिष्ठित कम्पनियां है। उद्योगों में रबर व टायर स्किल में दक्ष कार्मिकों की बढ़ती मांग को देखते हुए भारत सरकार के स्कील डवलपमेन्ट कोरपोरेषन ने प्रति वर्ष एक लाख युवाओं को स्किल प्रषिक्षण का लक्ष्य निर्धारित किया है।

कार्यक्रम में रबर स्किल डवलपमेन्ट काउंसिल नई दिल्ली की मुख्य कार्यकारी अधिकारी मेघना मिश्रा ने कहा कि बी.एस.सी. एवं एम.एस.सी. कर रहे विद्यार्थी अपनी नियमित पढ़ाई के साथ-साथ यदि यह स्कील प्रषिक्षण प्राप्त करें तो उनके लिए रोजगार एवं स्वरोजगार के अनेक द्वार खुल जायेंगे। मिश्रा ने कहा कि रबर व टायर इन्डस्ट्रीज में लड़कियों के लिए भी रोजगार के अनेक अवसर उपलब्ध है।

जे.के. टायर्स एण्ड इन्डस्ट्रीज लिमिटेड के वाईस प्रेसीडेन्ट राधेष्याम केडिया ने कहा कि जे.के. टायर कांकरोली ऐसे समस्त युवाओं के प्लांट में प्रषिक्षण के लिए तत्पर है जो विधिवत व प्रतिबद्धता के साथ रबर स्किल प्रषिक्षण प्राप्त कर रहे हैं। केडिया ने आष्वस्त किया कि कंपनी के वरिष्ठ अनुभवी मैनेजर व इंजीनियर स्वयं आकर प्रषिक्षण में मदद करेंगे।

चीफ जनरल मैनेजर राजीव भट्नागर, ने कहा कि स्किल डवलपमेन्ट प्रषिक्षण प्राप्त करने के साथ-साथ विद्यार्थी इण्डियन रबर इन्स्टीट्यूट की डी.आई.आर.आई. एवं पी.जी.डी.आई.आर.आई. परीक्षाओं के लिए भी पात्र है। इस परीक्षा के लिए कन्ट्रोलर ऑफ़ एग्जामिनेषन रबर टेक्नोलोजी सेन्टर आई.आई.टी. खडगपुर है।

विद्या भवन के मुख्य संचालक डा. सूरज जेकब ने कहा कि इस स्किल प्रषिक्षण से बी.एस.सी. एवं एम.एस.सी. विद्यार्थियों का अकादमिक स्तर भी मजबूत होगा।

प्राचार्य डा. अनिल मेहता ने कहा कि प्रषिक्षण प्रतिदिन दो घण्टें सप्ताह में चार दिनों के लिए आयोजित होगा एवं रबर व टायर इन्डस्ट्रीज में ओन जॉब टेªनिंग भी करवाई जाएगी।

विक्रम सिंह कुमावत ने बताया कि इस प्रषिक्षण में रबर से बने उत्पादों का गुणवता परीक्षण रबर से उत्पाद निर्माण विधियां सहित अनेक जरूरी तकनीकों व विधाओं का प्रषिक्षण दिया जाएगा।

कार्यक्रम के प्रारंभ में डा. मनीष रावल एवं गौरांग शर्मा ने अतिथियों का स्वागत किया। वी.बी.आर.आई. निदेषक डा. टी.पी. शर्मा ने रूरल इन्स्टीट्यूट द्वारा संचालित अकादमिक पाठ्यक्रमों की रूपरेखा प्रस्तुत की।
Source :
This Article/News is also avaliable in following categories : Education
Your Comments ! Share Your Openion

You May Like