logo

त्रयोदश कल्याण महाकुंभ का मुख्य समारोह 29 से,

( Read 7119 Times)

16 Jun 18
Share |
Print This Page
त्रयोदश कल्याण महाकुंभ का मुख्य समारोह 29 से, चित्तौड़गढ़: मेवाड के प्रसिद्ध श्री शेषावतार कल्लाजी वेदपीठ का त्रयोदश कल्याण महाकुंभ का मुख्य समारोह आषाढ प्रतिपदा से अष्टमी तक यानि 29 जून तक 6 जुलाई तक कल्याण नगरी निम्बाहेड़ा में आयोजित होगा जिसके तहत् आध्यात्मिक कल्याण पदयात्रा 17 जून को प्रातः 4 बजे ठाकुर जी के मंदिर से प्रारंभ होकर चित्तौडगढ पहुंचेगी जिसकी सभी आवश्यक तैयारियां पूर्ण कर ली गई है। वेदपीठ के न्यासियों ने ऋतुराज वाटिका में आयोजित पत्रकार वार्ता में बताया कि पदयात्रा के दौरान निम्बाहेड़ा से दुर्ग मार्ग स्थित कल्लाजी की छतरी तक लगभग 50 स्थानों पर मार्ग के ग्रामवासियो, धार्मिक, सामाजिक व राजनैतिक संगठनों की ओर से जलपान एवं ठाकुर जी के रथ के अगवानी की तैयारियों को अंतिम रूप दिया जा चुका है। पदयात्रियों व ठाकुर जी के रथ के नेहरू गार्डन पहुंचने पर यहां से शोभायात्रा के रूप में ओवरब्रिज कलेक्ट्रेट चैराहा, सुभाष चोक, सदर बाजार, मिठाई बाजार होते हुए दुर्ग के प्रथम प्रवेश द्वार पाडन पोल पर मेवाड और देश की आन बान शान के लिए प्राण न्यौछावर करने वाले वीर वीरांगनाओं को भाव भरी पुष्पांजलि अर्पित कर कल्लाजी की छतरी पर पूजा अर्चना एवं दर्शन के बाद भोजनोपरान्त पदयात्रियों को वाहनो से रवाना किया जायेगा। पदयात्रा में शामिल होने के लिए मेवाड, मालवा, हाडोती सहित कई क्षेत्रों से श्रद्धालुओं के शामिल होने से लगभग 8 से 10 हजार लोग भाग लेंगे।

विशाल, अनूठी एवं अद्भूत कलशोत्सव एवं शोभायात्रा 29 को
महाकुंभ के प्रथम दिन कल्याणनगरी में दशहरा मैदान स्थित प्राचीन शिवालय ढाबेश्वर महादेव विशाल, अनूठी एंव अद्भूत कलशोत्सव एवं शोभायात्रा प्रारंभ होकर नगर के विभिन्न मार्गो से होते हुए वेदपीठ पहुंचेगी जिसमें 200 से अधिक प्रभातफेरियां, हाथी, घोडे, ऊंट, झांकिया, पंजाब का आर्मी बैण्ड, मानव रहित विमान से पुष्प वर्षा सहित कई आकर्षण होंगे।

श्रीमद् भागवत महोत्सव 30
न्यासियों ने बताया कि श्री कल्लाजी वैदिक विश्वविद्यालय के स्थापनार्थ इस बार श्रीमद् भागवत महोत्सव का दिव्य अनूष्ठान किया जा रहा है जिसमें देश के विभिन्न क्षेत्रों से बड़ी संख्या में आने वाले लोगों के कारण यह महाकुंभ लक्खी मेले को प्रकट करेगा। महाकुंभ के दौरान श्रीमद भागवत महोत्सव 30 जून से 6 जुलाई तक अपरान्ह 3 से सायं 7 बजे के बीच होगा जिसमें भागवत मर्मज्ञ संत शिरोमणी आचार्य रामानुज महाराज के श्रीमुख से निसृत भागवत मंदागिनी का भक्तो को अमृतपान कराया जायेगा। इसके साथ ही अष्टोत्तरशत् भागवत पारायण भी किये जायेंगे जिसके लिए यजमानो की बढती संख्या के अनुरूप 121 पारायण भी संभावित है।

शालिग्राम संग तुलसी विवाह 5 को
मेवाड संभाग में प्रथम बार वेदपीठ की ओर से महाकुंभ के पावन अवसर पर आषाढ कृष्णा सप्तमी गुरूवार 5 जुलाई को 108 शालिग्राम संग तुलसी का भव्य विवाह महोत्सव आयोजित किया जायेगा।

51 कुण्डीय वासुदेव महायज्ञ 2 से
महाकुंभ के पावन अवसर पर 5 दिवसीय 51 कुण्डीय श्रीवासुदेव महायज्ञ आषाढ कृष्णा चतुर्थी से अष्टमी तक आयोजित किया जायेगा जिसके लिए अब तक 1400 यजमानों का पंजीयन किया जा चुका है।

ध्वजारोहण, महाआरती, दिव्यदर्शन 6 को
महाकुंभ के अंतिम दिन आषाढ कृष्णा अष्टमी को वासुदेव महायज्ञ की पुर्णाहूति के साथ मातृ पितृ पूजन किया जायेगा वहीं मंदिर पर ध्वजारोहण, महाआरती, प्राकट्योत्सव एवं दिव्यदर्शन के कार्यक्रम में देश के विभिन्न क्षेत्रों से हजारो श्रद्धालु भाग लेंगे। प्रतिनिधियों ने बताया कि प्रतिदिन रात्रि में संगीतमय भजन संध्या के आयोजन होंगे।

अब तक 11 करोड जाप पूर्ण
इस वर्ष का महाकुंभ भगवान वासुदेव को समर्पित करते हुए ओम नमोः भगवते वासुदेवाय के 12 करोड जाप का लक्ष्य लिया गया था जिसके मुकाबले वेदपीठ के आचार्य, बटूको व कल्याण भक्तों द्वारा 11 करोड जाप हो चुके है वहीं कल्याणनगरी, शंभुपूरा एवं चित्तौडगढ के विभिन्न मंदिरो से जुडे लोगों व धार्मिक संगठनों की ओर से लगभग 1 करोड से अधिक जाप किये जा चुके है।

आषाढ में होगा दीपावली का नजारा
महाकुंभ के दौरान संपूर्ण कल्याण नगरी में लोग पूरी श्रद्धा और उत्साह के साथ विद्युत रोशनी, सजावट करते हुए अपने घर आंगन में रंगोली सजाकर यहां आने वाले लोगों को आषाढ में दीपावली के नजारे की अनुभूति करायेंगे।
Source :
This Article/News is also avaliable in following categories : Headlines
Your Comments ! Share Your Openion

You May Like