GMCH STORIES

अरूण मिश्रा फिमी की सस्टेनेबल माइनिंग इनिशियेटिव कमेटी के चेयरमैन नियुक्त

( Read 1420 Times)

29 Apr 22
Share |
Print This Page
अरूण मिश्रा फिमी की सस्टेनेबल माइनिंग इनिशियेटिव कमेटी के चेयरमैन नियुक्त

भुवनेश्वर में आयोजित कार्यक्रम में हिन्दुस्तान जिंक के सीईओ और पूर्णकालिक निदेशक अरूण मिश्रा को सस्टेनेबल माइनिंग पहल के तहत् फिमी की सस्टेनेबल कमेटी का चेयरमैन नियुक्त करने की घोषणा की। मिश्रा वर्तमान में इंटरनेशनल जिंक एसोसिएशन के अध्यक्ष भी हैं। हिन्दुस्तान जिंक देश का सबसे बडा और दुनिया का दूसरा सबसे बडा सीसा-जस्ता उत्पादक होने के साथ ही पांच दशक से अधिक खनन और गेल्वेनाइजिंग के अनुभव में अग्रणी है।

इस अवसर पर मिश्रा ने कहा कि हमें धरती (*षि) और जमीन (खनिज) के नीचे दोनों पर धरती माता द्वारा दिए गए संसाधनों को महत्व देना चाहिए। खनिज न केवल हमारे दैनिक जीवन में महत्वपूर्ण है बल्कि देश के विकास के लिए भी अत्यावश्यक है। यह हमेशा से माना जाता रहा है कि भारत में खनिज संसाधनों की अधिकता है जो आत्म निर्भर भारत के सपने को साकार करने में महती भूमिका निभाएगा। फिमी की सस्टेनेबल माइनिंग इनि८ाएटिव की गवर्निंग काउंसिल के अध्यक्ष के रूप में मेरी प्राथमिकता खदानों को सस्टेनेबल और नेट जीरो हेतु सक्षम करने के साथ खनिज संरक्षण होगी। मेरे प्रयास इस विकास यात्र को समर्पित हैं और आगे भी रहेंगे।

ग्रीनफील्ड और ब्राउनफील्ड खदानों की नीलामी के बाद भारतीय खनन क्षेत्र् एक महत्वपूर्ण चरण में हैं। देश के वर्तमान पारिस्थितिकी तंत्र् को गतिशील देखते हुए यह अनिवार्य है कि नीति निर्माताओं, उद्योग सहित स्टेकहोल्डर्स वैश्विक सर्वोत्तम प्रथाओं को अपनाएं और इस क्षेत्र् के लिए दीर्घकालिक सस्टेनेबिलिटी को सुनिश्चित करने में सहयोग करें। 1966 में स्थापित फिमी एक राष्ट्रीय सर्वोच्च निकाय है जो सभी खनन, खनिज प्रसंस्करण, धातु बनाने और अन्य खनिज आधारित उद्योगों के हित को बढावा देता है। फिमी के 400 से अधिक प्रत्यक्ष और 25 क्षेत्रीय संघ हैं जो देश भर में स्थानीय लघु खनन इकाइयों का प्रतिनिधित्व करते हैं।

अरूण मिश्रा की फिमी के सस्टेनेबल माइनिंग इनि८ाएटीव के अध्यक्ष के रूप में नियुक्ति के बाद फिमी, भुवनेश्वर के होटल मेफेयर लैगून में सतत खनन शिखर सम्मेलन 2022 की मेजबानी कर रहा है। शिखर सम्मेलन का प्राथमिक उद्देश्य भारत में सस्टेनेबल माइनिंग के लिए रोडमैप तैयार करना है। सरकारी एजेंसियों, नियामकों, उद्योग के दिग्गजों, अभ्यास करने वाले प्रबंधकों, गैर सरकारी संगठनों, शिक्षाविदों और रणनीतिकारों सहित विभिन्न स्टेकहोल्डर्स, भारतीय खनन उद्योग से संबधित इन मुद्दों पर विचार विमर्श करने के लिए एकत्र् हुए हैं।


Source :
This Article/News is also avaliable in following categories : Headlines , Zinc News ,
Your Comments ! Share Your Openion

You May Like