logo

हिन्दुस्तान जिंक में ४१वां भूमिगत खान सुरक्षा

( Read 1611 Times)

14 Nov 17
Share |
Print This Page
हिन्दुस्तान जिंक में ४१वां भूमिगत खान सुरक्षा उदयपुर/ हिन्दुस्तान जिंक द्वारा जावर माईन्स के महाकुमार मंगलम स्टेडियम में महानिदेशालय खान सुरक्षा, उदयपुर व अजमेर क्षेत्र के तत्वावधान में ४१ वां भूमिगत खान सुरक्षा, स्वच्छता एवं सीलिकोसिस जागरूकता सप्ताह २०१७ आयोजित हुआ। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि महानिदेशक खान सुरक्षा पी.के.सरकार, विशिष्ट अतिथि उपमहानिदेशक खान सुरक्षा उत्तर पश्चिमी जोन उदयपुर नारायण राजक थे।कार्यक्रम की शुरूआत अतिथियों ने विभिन्न खदानों द्वारा प्रदर्शित भूमिगत खदान आपातकालीन बचाव उपकरण एवं प्राथमिक सहायता प्रदर्शनी के अवलोकन कर की। तत्पश्चात विधिवत द्वीप प्रज्जवलन कर सभी ने उन लोगो। के लिये दो मिनट का मौन रखा जिनकी भारत में कही भी खनन के दौरान दुर्घटना से मृत्यु हो गयी हो। साईट प्रेसिडेंट जावर पीएस जैतावत ने अपने उद्बोधन में सभी अतिथियों का स्वागत किया। मुख्य अतिथि महानिदेशक खान सुरक्षा पी.के.सरकार ने इस अवसर पर हिन्दुस्तान जिंक द्वारा अपने कर्मचारियों की सुरक्षा और जागरूकता के प्रति किये जा रहे कार्यो की सराहना करते हुए कहा कि हिन्दुस्तान जिंक खनन के क्षेत्र में एशिया में दूसरे नंबर पर आता है जो कि अपने आस-पास के क्षेत्र में सीएसआर के तहत् भी सराहनीय कार्य कर रहा है। उन्होंने जावर में फुटबॉल अकादमी की स्थापना को भी महत्वपूर्ण पहल बताया। सरकार ने कहा कि जितने भी खदान मालिक और प्रबंधक है वे सिलिकोसिस बीमारी के प्रती गंभीरता से ध्यान दे। इस प्रकार के आयोजन को अगले वर्ष उन्होंने राष्ट्रीय स्तर पर आयोजित करने की मंशा जताई। कार्यक्रम संयोजक निदेशक खान सुरक्षा उदयपुर क्षेत्र, एके पोरवाल ने इस वर्ष के सुरक्षा सप्ताह की थीम सुरक्षा, स्वच्छता एवं सीलिकोसिस जागरूकता के बारे मे अवगत कराते हुए कहा कि सिलिकोसिस एक गम्भीर व घातक बीमारी है जिसे उचित सावधानी व विवेकपूर्ण तरिके से रोका जा सकता है। सिलिकोसिस फेफडों की बीमारी है जो कि लम्बे समय तक सिलिका के कणों के श्वास के साथ फेफडों में जाने से होती है। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए हिन्दुस्तान जिंक के मुख्य प्रचालन अधिकारी एलएस शेखावत ने कहा कि सुरक्षा हमारी पहली और महत्वपूर्ण प्राथमिकता रही है जिसके लिए किसी भी प्रकार के समझौते से हमारी हर खदान प्रभावपूर्ण कार्यप्रणाली हेतु प्रतिबद्ध है। सुरक्षा सबसे महत्वपूर्ण है और हम महानिदेशालय खनन सुरक्षा के सभी निर्देशों का पालन कर रहे हैं। हिन्दुस्तान जिंक सदैव सुरक्षित काम के महौल पर उच्च मानकों को स्थापित करने के लिए हर कदम उठाने को तैयार है। उन्होंने कहा कि सुरक्षित खनन प्रणाली का सख्ती से पालन करने और किसी भी जोखिम से परे कार्य का वातावरण प्रदान करना उच्च मानकों के पालन की शर्त है यह कदम उसी दिशा की और महत्वपूर्ण है। सिलिकोसिस जैसी घातक बीमारी से बचाव एवं रोकथाम इस सप्ताह के महत्वपूर्ण पहलू में से एक है।इस अवसर पर हिन्दुस्तान जिंक के मुख्य वित्त अधिकारी अमिताभ गुप्ता ने हिन्दुस्तान जिंक की सभी खदानों के मार्च २०१८ तक भूमिगत खनन हो जाने की जानकारी दी। इस अवसर पर सांस्कृतिक कार्यक्रमों और कठपुतली शो के माध्यम से खान सुरक्षा एवं स्वच्छता जागरूकता का संदेश दिया गया। सर्वश्रेष्ठ खान एवं कर्मचारियों को अतिथियों ने पुरस्कृत किया।हिन्दुस्तान जिंक के हेड कार्पोरेट कम्यूनिकेषन पवन कौशिक ने बताया कि हिन्दुस्तान जिंक ओपन कास्ट माइनिंग से पुरी तरह अंडरग्राउण्ड माइनिंग के परिचालन की ओर बढ रहा है सुरक्षा हमेशा से हमारी प्राथमिकता रही हैं। हम ऑन जॉब और ऑफ जॉब सुरक्षा पर ध्यान देते हैं, सुरक्षा के लिए हम आम लोगों को रोजमर्रा के जीवन में भी जागरूक करते रहते है बीईंग सेफ कार्यक्रम सुरक्षा के प्रति आम लोगों को जागरूकरने के का एसा माध्यम है जिसके माध्यम से कर्मचारियों, परिवार और स्कूली बच्चों को घर,सडक एवं कार्य स्थल पर सुरक्षा हेतु जागरूक किया जा चुका है। इस अवसर पर निदेशक खान सुरक्षा अजमेर क्षेत्र अरविन्द कुमार, मानिदेशक खान सुरक्षा उदयपुर पीके कुण्डु, ऑपरेशन हेड राजीव श्रीमाली, हिन्दुस्तान जिंक वर्कर्स फेडरेशन के महासचिव केएस षक्तावत सहित विभिन्न खदानों के प्रतिनिधी, कर्मचारी एवं कामगार उपस्थित थे।

Source :
This Article/News is also avaliable in following categories : Udaipur News
Your Comments ! Share Your Openion

You May Like