सूखा हैंड पंप

( Read 1593 Times)

14 Aug 19
Share |
Print This Page

सूखा हैंड पंप

आर एन टी मेडीकल कॉलेज में इस वर्ष प्रवेश लेने वाले नावगुंतक हर छात्र छात्रा अपनी अब पानी की बोतल लेकर आता है पर ये पानी कितना सुरक्षित है यह बताया डॉ पी सी जैन ने जो दो दशकों से जल संरक्षण अभियान में लगे हुए है।ज़्यादातर के पीने का पानी लौ टी डी एस बहुत कम था जो एक भूखा जल होता है और शरीर से मिक्रोन्यूट्रिएंट्स निकाल लेता है और बच्चो के विकास और बूढो के स्वास्थ्य के लिए घातक है। विश्व स्वास्थ्य संघटन के अनुसार टी डी एस 250 से ऊपर ही स्वास्थ्य के लिए अनुकुल है।

पानी की जांच डॉ घनश्याम गुप्ता ने की जिसमे टी डी एस एवम पानी का पीच भी जांचा गया।

मेडिकल छात्रों को गिरते भूजल से शरीर मे होने वाली बीमारियों जैसे फ्लोरोसिस के बारे में भी बताया गया।छात्रों को रूफ टॉप रेन वाटर हार्वेस्टिंग के बारे मॉडल द्वारा जानकारी दी गई ताकि भविष्य में इन जल जनित बीमारियों से बचा जा सके।

नावगुंतक छात्र-छात्राओं ने *सूखा हैंड पंप *नाटिका का सफल।मंचन कर हैंड पंप,ट्यूबवेल, वेल इत्यादि को छत के वर्षा जल से रिचार्ज करने का संदेश दिया।

धन्यवाद डॉ घनश्याम गुप्ता प्रोफेसर एनोटॉमी ने डॉ पी सी जैन को ज्ञापित किया ।

विदिशा

कनिष्का

आदित्य

काजल

लक्ष्मी

हर्षित

यशस्वी

सबिस्ता

संदीप

निकिता

ने नाटिका में भाग लिया |


Source :
This Article/News is also avaliable in following categories : Udaipur News
Your Comments ! Share Your Openion

You May Like