logo

कोहली की चलती तो भारतीय टीम का कोच होता : सहवाग

( Read 3537 Times)

14 Nov 17
Share |
Print This Page

कोहली की चलती तो भारतीय टीम का कोच होता : सहवाग मेरठ, पूर्व सलामी बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग ने आज यहां कहा कि कप्तान भले ही टीम का सर्वेसर्वा होता है लेकिन कईं मामलों में उसकी भूमिका केवल राय देने वाली होती है और यही वजह है कि विराट कोहली के समर्थन के बावजूद वह भारतीय टीम का कोच नहीं बन पाये।अनिल कुंबले के कप्तान कोहली के साथ अस्थिर संबंधों के कारण मुख्य कोच पद छोड़ने के बाद सहवाग भी इसके दावेदारों में टामिल हो गये थे। सचिन तेंदुलकर, सौरव गांगुली और वीवीएस लक्ष्मण की तीन सदस्यीय ािकेट सलाहकार समिति ने हालांकि रवि टास्त्री के नाम पर मोहर लगायी जो इससे एक साल पहले कुंबले से दौड़ में पिछड़ गये थे। सहवाग ने कहा कि कप्तान का टीम से जुड़े विभिन्न फैसलों पर प्रभाव होता है लेकिन कईं मामलों में अंतिम निर्णय उसका नहीं होता है।उन्होंने यहां एक कार्यांम के दौरान कहा, कोच और चयन में कप्तान की भूमिका हमेटा राय देने वाली रही है।विराट कोहली चाहते थे कि मैं भारतीय टीम का कोच बनूं। जब कोहली ने संपर्क किया तभी मैंने आवेदन किया,लेकिन मैं कोच नहीं बना। ऐसे में आप कैसे कह सकते हैं कि हर फैसले में कप्तान की चलती है। सहवाग के बारे में कहा गया था कि उन्होंने केवल एक पंक्ति में कोच पद के लिये आवेदन कर दिया था लेकिन अपने करियर में 104 टेस्ट और 251 वनडे खेलने वाले इस विस्फोटक बल्लेबाज ने इससे इन्कार किया। उन्होंने कहा, मैंने सभी औपचारिकताएं की थी, एक लाइन वाली बात मीडिया के दिमाग की उपज थी। पाकिस्तान के खिलाफ 2004 में मुल्तान में 309 रन की पारी खेलकर टेस्ट ािकेट में तिहरा टातक जड़ने वाले पहले भारतीय बल्लेबाज बनने वाले सहवाग का मानना है कि इस पड़ोसी देटा के साथ ािकेट खेली जानी चाहिए लेकिन इसमें अंतिम फैसला सरकार का होगा। उन्होंने इस संबंध में पूछे गये सवाल पर कहा, यह सरकार को तय करना है। मेरी निजी राय है कि भारत को पाकिस्तान से ािकेट खेलनी चाहिए। सहवाग के बारे में कहा जाता है कि जब वह ीज पर उतरते थे तो यह परवाह नहीं करते थे कि सामने कौन सा गेंदबाज है लेकिन दिल्ली के इस बल्लेबाज ने माना कि श्रीलंका के आफ स्पिनर मुथैया मुरलीधरन को खेलने में उन्हें कुछ अवसरों पर परेटानी हुईं। उन्होंने कहा, मैंने कभी किसी गेंदबाज को खेलने के बारे में ज्यादा नहीं सोचा लेकिन मुरलीधरन को खेलने में थोड़ी मुश्किल हुईं। उनके लिये अलग से रणनीति बनानी पड़ती थी। जहां तक सलामी जोड़ीदार की बात है तो मैंने सचिन तेंदुलकर के साथ पारी का आगाज करने का पूरा लुत्फ उठाया। उनके बाद ाएडमा गिलािस्ट का नंबर आता है।सोटाल मीडिया पर विभिन्न मामलों में अपनी राय देने वाले सहवाग का फिलहाल राजनीति में आने का कोईं इरादा नहीं है लेकिन वह चाहते हैं कि उनकी जीवनी लिखी जाए और दो बार के ओलंपिक चैंपियन सुटील कुमार पर बायोपिक बने। सहवाग ने कहा, तमाम ािकेटर्स की जीवनी आ रही हूं। मैं भी इस बारे में सोच रहा हूं।अच्छे लेखक की तलाटा है। हो सकता है कि जल्द ही इस बारे में आपको पता चले। उन्होंने कहा, जहां तक बायोपिक की बात है तो अभी तक किसी ने मुझसे संपर्क नहीं किया और मेरा ऐसा कोईं इरादा भी नहीं है। हां, यह जरूरी है कि भारत में ािकेट के अलावा भी कईं ऐसे खिलाड़ी हैं जिनका संघर्ष लोगों के सामने आना चाहिए। मेरा मानना है कि पहलवान सुटील कुमार की बायोपिक आनी चाहिए। उनके संघर्ष को मैंने करीब से देखा है। सहवाग अभी ािकेट पट्रासन में भी नहीं आना चाहते हैं और फिलहाल हिन्दी कमेंटेटर के रूप में अपनी अलग पहचान बनाना चाहते हैं।


Source :
This Article/News is also avaliable in following categories : Headlines , Sports News
Your Comments ! Share Your Openion

You May Like