BREAKING NEWS

जिला विधिक सेवा प्राधिकरण द्वारा सीएचसी मुंगाणा का किया गया औचक निरीक्षण

( Read 1416 Times)

02 Mar 20
Share |
Print This Page

जिला विधिक सेवा प्राधिकरण द्वारा सीएचसी मुंगाणा का किया गया औचक निरीक्षण

प्रतापगढ/  राजस्थान राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण (Legal services authority)और माननीय राजस्थान उच्च न्यायालय द्वारा जारी दिशा निर्देशों की पालना में जिला विधिक सेवा प्राधिकरण प्रतापगढ के सचिव (अपर जिला एवं सेशन न्यायाधीश) लक्ष्मीकांत वैष्णव द्वारा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र (Community Health Center)मुंगाणा का औचक निरीक्षण किया गया। प्राधीकरण सचिव के द्वारा चिकित्सालय के प्रसूति वार्ड, लेबर रूम तथा दवा वितरण केंद्र का निरीक्षण किया गया। निरीक्षण के समय पैनल लॉयर अजीत कुमार मोदी भी उपस्थित रहे। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के प्रभारी डॉ जीवराज मीणा केंद्र पर उपस्थित थे । उपस्थिति पंजिका के मुताबिक एक स्टाफ नर्स द्वितीय के कॉलम खाली थे जिस के संबंध में चिकित्सा अधिकारी प्रभारी के द्वारा यह बताया गया कि उक्त स्टाफ मेडिकल (Medical)अवकाश पर है। लेबर रूम का निरीक्षण राजस्थान राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण द्वारा जारी निर्देशों के मुताबिक किया गया जिस पर रेडिएंट वार्मर ,सक्शन मशीन तथा ऑक्सीजन सिलेंडर के सुचारू काम करने की व्यवस्थाओं को देखा गया। यह उल्लेखनीय है  कि निरीक्षण के समय प्रसूति  वार्ड में चार प्रसूति महिलाएं भर्ती पाई गई और उनके द्वारा चाय नाश्ते और बिस्किट समय पर देने की स्थिति प्रकट की गई। इस हेतु प्राधिकरण सचिव के द्वारा प्रभारी चिकित्सा अधिकारी की सराहना की गई। चिकित्सालय (Hospital) में प्रवेश द्वार की स्थिति संतोषजनक नहीं पाई गई और एंबुलेंस अथवा वाहन के प्रवेश के लिए उसे उचित नहीं पाया गया। प्रवेश द्वार मे जो नाली और खड्डा पाया गया वह प्रसूति के लिए आने वाले वाहन और एंबुलेंस के लिए नुकसानदायक होना जाहिर आया और इस संबंध में चिकित्सा अधिकारी प्रभारी को निर्देश दिए गए कि वे संबंधित ठेकेदार से संफ कर इसे तुरंत दुरस्त करावे ताकि प्रसूति के लिए आने वाली महिलाओं को असुविधा व नुकसान नहीं हो। निरीक्षण के समय मौके पर रोगी ,ग्रामीण व जनप्रतिनिधि भी उपस्थित आ गए थे जिनके द्वारा प्राधिकरण सचिव व पैनल अधिवक्ता अजीत मोदी के समक्ष यह प्रकट किया कि यहां २८० मरीजों की प्रतिदिन की ओपीडी है जबकि पूरा अस्पताल केवल मात्र एक चिकित्सक के भरोसे चल रहा है ऐसे में मुंगाणा जैसे बडे गांव को अत्यंत परेशानियों का सामना करना पडता है। चिकित्सा अधिकारी प्रभारी से पूछे जाने पर उन्होंने बताया कि इस सीएचसी पर ८ चिकित्सकों के पद स्वीकृत हैं लेकिन २४ घंटे केवल मात्र एक ही चिकित्सक को सारा कार्यभार संभालना पडता है। ग्रामीणों के द्वारा १०८ एंबुलेंस नही होने व १०४ एंबुलेंस खराब होने व स्थिति  संतोषजनक नहीं बताई गई। प्रवेश द्वार के सुधार, एंबुलेंस की व्यवस्था को सुचारू बनाने के लिए, डॉक्टर व स्टाफ की समुचित व्यवस्था के लिए प्राधिकरण के कनिष्ठ सहायक अलीमुद्दीन कुरेशी को मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी प्रतापगढ को सूचित किए जाने के संबंध में निर्देश दिए गए। इस पत्र की प्रति उच्चाधिकारियों तथा जिला कलेक्टर को भी प्रेषित किए जाने के निर्देश दिए गए।


Source :
This Article/News is also avaliable in following categories : Pratapgarh News
Your Comments ! Share Your Openion

You May Like