शाइन इंडिया के नेत्रदान के कार्यों की उपराष्ट्रपति जी ने की सराहना

( Read 883 Times)

14 Feb 20
Share |
Print This Page
शाइन इंडिया के नेत्रदान के कार्यों की उपराष्ट्रपति जी ने की सराहना

दिल्ली के संस्कृति मंत्रालय व भारतीय सामाजिक उत्तरदायित्व अभियान (ISRN) के सहयोग से , केंद्र सरकार की अंत्योदय योजना के तहत, सरदार वल्लभ भाई पटेल कॉन्फ्रेंस हॉल (Conference hall) में नेत्रदान-अंगदान-देहदान के क्षेत्र में अनवरत व उत्कृष्ट कार्य करने के लिये कोटा संभाग की संस्था शाइन इंडिया फाउंडेशन को मुख्य अतिथि सम्मानीय उपराष्ट्रपति श्री एम वेंकैया नायडू, व विशिष्ट अतिथि डॉ विनय सहस्रबुद्धे,राज्य सभा सांसद, व अध्यक्ष-भारतीय सांस्कृतिक संबंध परिषद ने,उपराष्ट्रपति निवास स्थित सरदार वल्लभ भाई पटेल कॉन्फ्रेंस हॉल में सम्मानित किया गया। 

सम्पूर्ण देश से एकमात्र शाइन इंडिया फाउंडेशन (SIF)को यह सम्मान उनको बिना राज्य या केंद्र सरकार से आर्थिक सहयोग मिलें, अनवरत, समयबद्ध व विपरीत परिस्थितियों में भी कर्तव्य परायण बने रहने के साथ,सभी उम्र,जाति व धर्म के आम जनता को नेत्रदान जैसे पुनीत कार्य में जागरूक व उनको प्रोत्साहित कर सामाजिक कार्यों की इस  मुहीम में जोड़ने के लिए दिया गया है । 

अंत्योदय योजना के तहत,देश भर से ऐसे लोगों व संस्थाओं का चयन किया जाता है,जिन्होंने अपने जुनून, अपने काम के प्रति लगन व मेहनत के दम पर ज़मीनी स्तर पर से किसी कार्य को उठाया हो,और उसको जन-आंदोलन बनाया हो । इसके लिये मंत्रालय व आईएसआरएन द्धारा अपने स्तर पर ही एनजीओ (NGO) का चयन किया गया था । देश भर से 2000 से अधिक एनजीओ को प्रथम चयन में लिया गया था,कई सारी प्रक्रिया के उपरांत देश की 150 एनजीओ को अंतिम रूप से चयनित किया गया है ।

संस्था के काम करने के तौर-तरीकों,जागरूकता कार्यशालाओं को,शोक के समय की जाने वाली काउंसलिंग ,नेत्रदान के उपरांत शोकाकुल परिवार को दी जाने वाली सांत्वना को भारतीय सामाजिक उत्तरदायित्व अभियान (ISRN) व केन्द्र सरकार के संस्कृति मंत्रालय विभाग के 200 से ज्यादा सहयोगियों द्धारा हर कदम पर ,अलग अलग जाँच व परीक्षणों के माध्यम से करीब 18 महीनों से जाँचा-परखा जा रहा था । सभी तरह से मापदंडो व गुणवत्ता पर खरा उतरने के बाद शाइन इंडिया का नाम इस सम्मान के लिए चयनित किया गया है।

विभाग के लोगों को,संस्था की सबसे उत्कृष्ट बात यह लगी की,संस्था ने अपनें कार्यों का दायरा कोटा शहर या संभाग तक ही नहीं रहने दिया बल्कि,सदस्यों के ऊर्जावान प्रयासों के कारण यह कार्य कोटा के साथ साथ, कोटा के 150 km के दायरों में भी घर-घर तक पहचान बनाने लगा । यहाँ भी संस्था ने न सिर्फ जागरूकता बढ़ाई, बल्कि दूर-दराज़,गाँव-ढ़ाणियों में प्रतिकूल मौसम व विपरीत परिस्थितियों में,दूरी की परवाह किये बिना ,दिन हो रात,तेज सर्दी-गर्मियों की परवाह किये बिना अपने नेत्रदान के काम को पहली प्राथमिकता दी है ।

कोटा के लिए गौरव की बात

देशभर से विभिन्न क्षेत्रों में बेस्ट करने वाले 150 सामाजिक संस्थाओं व समाज सेवकों का इस कार्यक्रम में उपराष्ट्रपति  श्री एम वेंकैया नायडू द्वारा सम्मान किया गया ।  कोटा (Kota) के लिए भी ये गौरव की बात है की नेत्रदान-अंगदान-देहदान के क्षेत्र में राजस्थान से एकमात्र शाइन इंडिया फाउंडेशन का चयन यहां से हुआ है। इंडियन सोशल रिसपोंसबिलिटी नेटवर्क (Indian Social Responsibility Network) की ओर से आयोजित कार्यक्रम में देशभर के उन सभी बेस्ट करने वलों को चिन्हित किया गया है, जिन्होंने किसी ना किसी क्षेत्र में विशेष महारथ हासिल की है।

एक बेहतरीन टीम का प्रतिनिधित्व करना और सामाजिक क्षेत्र में युवाओं को प्रेरित कर मानव सेवा से जोड़ने के कार्य को इस पुस्तक में शामिल किया गया है। 

उप राष्ट्रपति द्वारा इस कार्यक्रम में ‘‘द विजन ऑफ अंतोदय ’’ पुस्तक का विमोचन भी किया गया, जिसमें प्रत्येक व्यक्ति द्वारा किए गए कार्यों का विश्लेषण इस पुस्तक में समाहित किया गया है। 

 


Source :
This Article/News is also avaliable in following categories : Kota News
Your Comments ! Share Your Openion

You May Like