logo

इंदौर जयपुर सुपरफास्ट पूरी ट्रेन लूटेरो के हवाले

( Read 3126 Times)

13 Oct 18
Share |
Print This Page

इंदौर जयपुर सुपरफास्ट पूरी ट्रेन लूटेरो के हवाले कोटा । इंदौर-जयपुर सुपर फास्ट यात्री गाड़ी में मंगलवार तड़के कोटा के नजदीक भवानी मंडी रेलवे स्टेशन के नजदीक के जंगलो में दो महिलाओं से करीब 30 लाख रूपए से अधिक के हीरे व सोने के जेवर लूट की हुई घटना के बाद तीसरे दिन भी राजस्थान व मध्यप्रदेश जीआरपी पुलिस एक दूसरे के क्षेत्र में घटना की बात कहते हुए मामला दर्ज करने में आना कानी कर रही है। रेलवे सूत्रो से मिली जानकारी के अनुसार लुट वाले दिन इंदौर जयपुर सुपर फास्ट यात्री ट्रेन में आरपीएफ व जीआरपी के जवान पर नही थे। इसलिए लूटेरो ने पूरी तरह से बेखौफ हो लूट की वारदात को अंजाम दिया।
इंदौर-जयपुर यात्री ट्रेन से मंगलवार तड़के करीब 2.50 बजे शामगढ़ व भवानीमंडी रेलवे स्टेशनों के बीच जंगल में गाड़ी रोक कर अज्ञात बदमाशों ने जयपुर की और सफर कर रही महिलाओं के बैग छीन लाखों रूपयों की नकदी व सोने व डायमण्ड ज्वेलरी लूट ली। इस प्रकरण में जयपुर में दी गई रिपोर्ट में एमजी रोड लुकागंज इंदौर निवासी मंजू कासलीवाल पत्नी संजय कांसलीवाल ने बताया कि वो एसी सीट नंबर 07 में सफर कर रही थी। वो भी पर्स को पकड़ कर सो रही थी, इसी बीच गाड़ी रूकने के साथ ही उसका पर्स अज्ञात जनों छीन कर भाग गया। इसका पता उसे रामगंजमंडी ट्रेन के पहुंचने के बाद लगा। इसमें 2 लाख नकदी, एवं सोने व डावमण्ड ज्वेलरी सेट, करीब 22 लाख के जेवर लूट लिए थे। इसी प्रकार प्रिंसेस गार्डन, पल्ल्वन वैकुण्ड धाम इंदौरी निवासी उदयन अग्रवाल ने बताया कि रात्रि करीब 2.50बजे शामगढ़व भवानीमंडी रेलवे स्टेशनों के बीच जंगल में गाड़ी रूकी एवं समीप सो रही उनकी पत्नी रितु अग्रवाल का पर्स छीन कर खड़ी ट्रेन से नीचे उतर गया। जिसमे 1.75लाख नकदी, करीब चार लाख के जेवर व 70 हजार रूपए के मोबाइल थे।
कोटा जीआर अधिकारिक सूत्रों ने बताया कि घटना के बाद से ही मध्यप्रदेश व राजस्थान आरपीएफ व जीआरपी पुलिस सक्रिय हो गई है। सादे वस्त्रों में स्टेशनों व यात्री ट्रेनों में गश्त की जा रही है। पुलिस पूरी सक्रियता से संदिग्धों की तलाश कर रही है। पुलिस शीघ्र ही मामले को खोल देगी।
दो तीन गाड़ियों में ही जीआरपी का जाप्ता लगता है। अन्य गाड़ियों में आरपीएफ जाप्ता रहता है। प्रकरण की रिपोर्ट जयपुर जीआरपी में लिखी गई। घटना चाहे राजस्थान व मध्यप्रदेश क्षेत्र में हुई हो, प्रकरण दर्ज कर लिया जाएगा। सबसे पहले अपराधियों की तलाश आवश्यक है।
स्टाफ की कमी से आरपीएफ के जवान सभी गाड़ियों में रात्रि गश्त नहीं कर सकते है। इंदौर जयपुर में कोई भी जवान नहीं था।
Source :
This Article/News is also avaliable in following categories : Kota News
Your Comments ! Share Your Openion

You May Like