BREAKING NEWS

logo

हाड़ोती में मसालों की महक

( Read 1499 Times)

13 Jul 18
Share |
Print This Page
हाड़ोती में मसालों की महक कोटा (डॉ.प्रभात कुमार सिंघल)| धनिया,मिर्च.सोफ,लहसुन,अदरक ,मेथी आदि मसलों की खुशबु से महकती हाड़ोती को अब एक नई सौगात कोटा जीले के रामगंजमंडी में स्पाइस पार्क के रूप में मिलने जा रही है,जब केंद्रीय वाणिज्य एवम् नागर विमानन मंत्री सुरेश प्रभु इसका लोकार्पण शनिवार 14 जुलाई को करेंगे। मसाला पार्क के लोकार्पण की तियारिओं का गुरुवार को सांसद ओम् बिरला ने विधायक चंद्रकांता मेगवाल के साथ मौक़े पर पहुच कर जायजा लिया।
उल्लेखनीय है कि यहाँ के धनिये का पहले से निर्यात हो रहा है अब मसाला पार्क के बनने से ग्रेडिंग की बड़ी यूनिट लगने से निर्यात में बढ़ोतरी होगी। ग्रेडिंगकम कीमत पर होगो तथा मूल्य अच्छा मिलेगा।
मसाला पार्क का निर्माण राजकीय महाविद्यालय के पास आवंटित 12.14 हेक्टर जमींन पर किया गया है और यहाँ करीब 17 बड़ी यूनिट लगाए जाने की आशहै। पार्क के आधारभूत ढांचे को तैयार करने में 15 करोड़ रुपए व्यय किये गए है।
प्राप्त जानकारी के मुताबिक हाड़ोती में वर्तमांन में 6 से 7 लाख टन धनिया प्रतिवर्ष उत्पादन होता है जिसमे से लगभग 4 टन धनिया यूरोप,लंका आदि देशो को भेजा जाता है। अभी छोटी छोटी यूनिटों से ग्रेडिंग होने में समय ज्यादा लगता है और लागत भी ज्यादा आती है। बड़ी मशीनों से यह समस्या तो दूर होगी साथ की ग्रेडिंग भी अधिक उच्च गुणवत्ता की होने से मूल्य भी ज्यादा मिलेगा जिस से काशस्तकारों भी लाभ अधिक होगा।। इस से ग्रेडिंग होने वाले धनिये की मात्रा भी बढ़ कर करीब 5 लाख टन तक होने की आशा है।
धनिया बीज का उत्पादन यूँ तो दुनियां के मोरक्को, रूस,कनाडा,रोमानिया,तुर्की,मिश्र, चीन,अमेरिका,मेक्सिको आदि देशों में भी होता है परंतु भारत धनिये का सबसे बड़ा उत्पादक एवम् उपभोक्ता देश है। भारत में करीब पांच लाख टन धनिये का उत्पादन होने बीज या पावडर के रूप में 40 हज़ार टन निर्यात होने का अनुमान है। भारत में सबसे बड़ा धनिया उत्पादक राज्य राजस्थान है जहां देश का 58 प्रतिशत उत्पादन होता है। इस के बाद मध्य प्रदेश में 15 प्रतिशत असम एवम् गुजरात में भी धनिये का उत्पादन होता है।
Source :
This Article/News is also avaliable in following categories : Kota News
Your Comments ! Share Your Openion

You May Like