BREAKING NEWS

भारत विकास के लिए मानव केन्द्रित और समावेशी दृष्टिकोण अपना रहा है- नरेन्‍द्र मोदी

( Read 2825 Times)

10 Jul 20
Share |
Print This Page

भारत विकास के लिए मानव केन्द्रित और समावेशी दृष्टिकोण अपना रहा है- नरेन्‍द्र मोदी

 प्रधानमंत्री ने कहा है कि भारत बेहतर कार्य निष्पादन, सुधार और परिवर्तन के दौर से गुजर रहा है और नए आर्थिक अवसर जुटा रहा है। उन्होंने कहा कि आज  का भारत विकास के लिए मानव केंद्रित और समावेशी दृष्टिकोण अपना रहा है।

इंडिया ग्लोबल वीक 2020 के उद्घाटन के अवसर पर श्री मोदी ने कहा कि भारत विश्व के पुनरुत्थान में प्रमुख भूमिका अदा कर रहा है और दुनिया की भलाई और खुशहाली के लिए आवश्यक सभी कार्य करने के लिए तैयार है। श्री मोदी ने कहा कि विश्व के पुनरुत्थान और भारत के बीच स्वाभाविक संबंध है और इसमें दो घटकों का इस पुनरुत्थान में विशेष योगदान है। इनमें एक है भारतीय प्रतिभा और दूसरा है भारत की सुधार और पुनरुत्धान करने की क्षमता।

प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत ऐसे उत्सुक व्यक्तियों का शक्ति केंद्र है, जो योगदान करना चाहते हैं और भारतीय स्वाभाविक सुधारक रहे हैं, जिन्होंने सामाजिक या आर्थिक चुनौतियों पर सफलता प्राप्त की है। श्री मोदी ने कहा कि भारत का लक्ष्य करुणा के साथ पुनरुत्थान करना है, जो पर्यावरण और अर्थव्यवस्था दोनों को स्थिरता प्रदान करता है।

कोविड-19 महामारी के बारे में श्री मोदी ने कहा कि भारत इस दिशा में दृढ़ता के साथ संघर्ष कर रहा है, जिसमें लोगों के स्वास्थ्य के साथ अर्थव्यवस्था पर भी ध्यान केंद्रित किया जा रहा है। पिछले 6 वर्षों में वर्तमान सरकार की प्रमुख उपलब्धियां गिनाते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत ने वित्तीय समावेशन, आवास और ढांचागत निर्माण, व्यापार करने में सुगमता और जीएसटी सहित सुदृढ़ कर सुधारों की दिशा में विशेष सफलता प्राप्त की है।

प्रधानमंत्री ने अंतर्राष्ट्रीय कम्पनियों को भारत में निवेश के लिए आंमत्रित किया। उन्होंने कहा कि भारत विश्व में सर्वाधिक मुक्त अर्थव्यवस्था में से एक है। उन्होंने कहा कि भारत जिस तरह के अवसर प्रदान कर रहा है, ऐसे अवसर गिने-चुने देश ही प्रदान कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि कृषि, एमएसएमई, रक्षा, अंतरिक्ष और औषधि क्षेत्रों में भारत में अनेक अवसर और संभावनाएं हैं।


Source :
This Article/News is also avaliable in following categories : Headlines
Your Comments ! Share Your Openion

You May Like