अद्भुत रहा लक्ष्मण के प्रति राम का प्रेम

( Read 10482 Times)

15 Apr 19
Share |
Print This Page

अद्भुत रहा लक्ष्मण के प्रति राम का प्रेम

महाकालेश्वर मंदिर रानी रोड पर महर्षि दाधीच सेवा संस्थान उदयपुर द्वारा काशी बनारस के कलाकारों द्वारा चल रही रामलीला के आठवें दिन लक्ष्मण शक्ति का मंचन किया गया। यह मंचन इतना अद्भुत रहा एक भाई के प्रति एक भाई का क्या प्रेम होना चाहिए यह रामचरित मानस से सीखने को मिलता है। लक्ष्मण के शक्ति लगने पर भगवान राम के करुणामई बिलाप देख कर दर्शकों के आंखों से आंसू छलक पडे। पवन पुत्र वीर बजरंगबली हर संकटों को काटने वाले सजीवन बूटी लेने के लिए निकल पडते हैं। बीच में अनेकों कष्ट आने के बावजूद भी संकट मोचन पवन पुत्र को कौन रोक सकता है सजीवन बूटी लेकर पहुंचते हैं और लक्ष्मण जी के प्राण बचा लेते हैं। लक्ष्मण जी के जीवित होने पर कलाकारों के कलाकारी देख एवं भारतीय संस्कृति के आराध्य देव भगवान राम करुणामई प्रसंग देख तालियों से गूंज उठा महाकाल परिसर। महर्षि दाधीच सेवा संस्थान के राधेश्याम दाधीच ने कहा पहली बार महाकाल के परिसर में रामनवमी के पावन पर्व पर रामलीला महोत्सव का आयोजन किया गया जो एक अपने आप में महाकुंभ रहा जिसका समापन १४ अप्रेल को होगा। कुंभकरण वध, मेघनाथ वध, रावण वध, भरत मिलाप व भगवान राम के राज्याभिषेक के साथ होगा।


Source :
This Article/News is also avaliable in following categories : Chintan
Your Comments ! Share Your Openion

You May Like