logo

गौमुत्र व गंगाजल से यात्रा मार्ग का शुद्धीकरण

( Read 6767 Times)

05 Jul 18
Share |
Print This Page

भगवान जगन्नाथ रथयात्रा मार्ग की पानी से धोकर गोमुत्र-गंगा जल का छीटकाव किया जावेगा। पुरे रथयात्रा मार्ग को छोटी लाईट व ध्वजा पताकाओं से सजाया जावेगा।
यात्रा मार्ग में स्वागत में प्लास्टिक का उपयोग कम करने के लिए समिति द्वारा निःशुल्क स्टील के गिलास वितरण किये जायेगें।
आगामी 14 जुलाई, शनिवार को स्थानीय जगदीश मन्दिर व सेक्टर नम्बर 7 स्थित जगन्नाथ धाम मंदिर से निकलने वाली रथयात्रा की तैयारियों जोर शोर से की जा रही है अलग-अलग समुह रथयात्रा को विशाल बनाने के लिए शहर व ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों को जोडने के लिए प्रयास कर रहे है। रथयात्रा में आमजन का सीधा जुडाव के लिए यात्रा में शामिल होने या स्वागत करने के लिए कहा जा रहा है।
रथयात्रा मार्ग को छोटे रंग बिरंगी लाईटों से सजाया जावेगा साथ ही रथ समिति के घनश्याम, राजेन्द्र श्रीमाली, रवि माली, गुन्जन, गोटू कसारा, अम्बालाल लौहार, शैलेन्द्र आदि के नेतृत्व में 50 से अधिक कार्यकर्ताओं द्वारा पुरे रथयात्रा मार्ग की दुकानों व मकानों पर ध्वजा पताकाओं से सजाया जावेगा। पिछले वर्ष से अधिक की संख्या में भक्तों के घरों व प्रतिष्ठानों पर ध्वजा पताकाऐ लगायी जा रही है। मुख्य रथ की साफ सफाई व रंग रोगन के लिए अम्बालाल लौहार, कैलाश जीनगर, चन्देश दिक्षीत द्वारा विशेष प्रयास किये जा रहे है।
दिनांक 14 जुलाई को दिन में 12 बजे बाद पुरे रथयात्रा मार्ग को पानी से धोकर समिति के कार्यकर्ता गौमुत्र व गंगाजल से यात्रा मार्ग का शुद्धीकरण किया जावेगा। समिति के कार्यकर्ता यात्रा मार्ग में लगने वाले स्वागत स्टाल के प्रबन्धनों से सम्पर्क कर रथयात्रा में सफाई का विशेष ध्यान देने व स्वागत में प्लास्टिक का उपयोग कम से कम करने के लिए सम्पर्क कर रहे है। इस बार सभी स्वागत करने वाले काउन्टर पर समिति द्वारा स्टील एवं ठोस प्लास्टिक की गिलासों का वितरण किया जावेगा ताकि प्लास्टिक गिलासों से कचरा नही हो ऐसा प्रयास किया जावेगा।
मेवाड़ सेना द्वारा जगदीश चौक पर 501 किलो गुलाब के फुलो की पखुडीयों से जगदीश चौक पर रथयात्रा की शुरूआत जोरदार तरीके से पुष्प वर्षा के लिए 2 तोप लगायी जावेगी जिससे पुष्प वर्षा होगी। 7 जुलाई शनिवार को रथयात्रा में भाग लेने वाले सामज संगठनों के प्रमुख की बैठक आसिन्द की हवेली जगदीश चौक पर रखी गई है।
Source :
This Article/News is also avaliable in following categories : Chintan
Your Comments ! Share Your Openion

You May Like