सुरक्षित बचपन के लिए अभिनव पहल के तहत 12 हजार बच्चों तक पहुंचा जागरूकता अभियान

( Read 963 Times)

14 Oct 19
Share |
Print This Page
सुरक्षित बचपन के लिए अभिनव पहल के तहत 12 हजार बच्चों तक पहुंचा जागरूकता अभियान

डॉ. प्रभात कुमार सिंघल, कोटा

स्पर्श अभियान सुरक्षित बचपन के लिए एक अभिनव पहल के तहत नवीन जैन आईएएस पूर्व जिला कलेक्टर के नेतृत्व में वॉलिंटियर्स की टीम ने बारां शहर के 36 सरकारी एवं निजी विद्यालयों, मदरसों में 58 सेशन आयोजित कर 12 हजार से अधिक बच्चों को सुरक्षित और असुरक्षित स्पर्श के बारे में विस्तार से जानकारी दी। सरकारी सेवा में कार्यरत विभिन्न विभागों के वरिष्ठ अधिकारी तथा सलाहकारों के साथ अनेक स्वयंसेवी संगठनों के प्रतिनिधियों ने बढ़ चढ़कर भाग लिया।              बारां में इस साल में वॉलिंटियर्स बनने के इच्छुक युवक व युवतियों व अन्य नागरिकों को कार्यक्रम की आवश्यकता के संदर्भ में समझाया गया। इसके उपरांत विभिन्न विद्यालयों में इन वॉलिंटियर्स को जयपुर से आए हुए प्रशिक्षित वालेन्टियरस के साथ अटैच किया गया। लगभग 15 टीमों द्वारा 80 से ज्यादा वालेन्टियरस के जरिए बाल यौन शोषण के विरुद्ध विद्यार्थियों के साथ-साथ विद्यालयों में कार्यरत स्टाफ एवं प्रबंधन को भी जागरूक किया गया। 

               नवीन जैन ने बताया कि पूर्व में संचालित डेप की सफलता को देखते हुए यह कार्यक्रम तय किया गया कि स्वप्रेरणा के आधार पर समाज के विभिन्न वर्गों के लोगों को शनिवार के दिन सामाजिक सरोकारों से जोड़ने के लिए एक प्लेटफार्म दिया जाए। इसके लिए स्पर्श अभियान की शुरुआत की गई है। विद्यालय में कार्यक्रम के प्रति विद्यार्थियों का स्टॉफ व वालेन्टियरस  में भारी उत्साह देखा गया।  जैन द्वारा विभिन्न स्कूलों के विद्यार्थियों को सरल भाषा में सुरक्षित एवं असुरक्षित स्पर्श एवं बाल यौन शोषण व इससे बचाव के उपायों पर प्रस्तुतीकरण किया गया। आने वाले एक माह में कार्यक्रम श्रीगंगानगर उदयपुर तथा कोटा में इसी प्रकार के माध्यम से किया जाना प्रस्तावित हैं। जनवरी 2020 तक 12 जिलों में 500 से अधिक विद्यालयों में 1 लाख से अधिक विद्यार्थी तक उक्त कार्यक्रम पहुंचा स्पर्श अभियान  कार्यक्रम में सरकारी व निजी विद्यालयों को सम्मिलित किया गया था।                

 


Source :
This Article/News is also avaliable in following categories : Kota News
Your Comments ! Share Your Openion

You May Like