logo

जैन इंजीनियर्स सोसायटी के १२ वें राश्ट्रीय अधिवेषन का मुख्य समारोह

( Read 565 Times)

13 Jan 19
Share |
Print This Page

उदयपुर  जैन इंजीनियरिंग सोसायटी का दो दिवसीय १२वां राष्ट्रीय अधिवेशन शनिवार से उदयपुर के स्प्रेक्ट्रम रिसोर्ट में प्रारम्भ हुआ। मुख्य समारोह रविवार प्रातः १० बजे जैन धर्म के जरिये पर्यावरण स्थिरता विशय पर प्रारम्भ होगा।

सोसायटी के अध्यक्ष ने इजि.बी.एल.खमेसरा ने बताया कि उदयपुर में आयोजित हो रहे इस अधिवेशन महावीर के सिद्धान्तों का समाज में समरसता एवं पर्यावरणीय सन्तुलन बनाये रखने में योगदान पर गहन चर्चा होगी। इसलिए इनका अधिकाधिक प्रचार प्रसार करना है। देषभर में कार्यरत इस सोसायटी के भारत सहित विश्व भर में साढे चार हजार सदस्य हैं। जिसमें इंजीनियरों के साथ ही शिक्षाविद एवं उद्योगपति भी षामिल है।

उन्होंने बताया कि राजस्थान में उदयपुर, कोटा, जयपुर व जोधपुर में सोसायटी कार्यरत है। अभी तक इस सोसायटी के कुल २० चैप्टर बन चुके हैं। प्रतिवर्श आयोजित हाने वाला अधिवेशन इस वर्श उदयपुर में आयोजित हो रहा है। उदयपुर में इस चेप्टर का गठन हाल ही में हुआ है।

कन्वेषन कमेटी के चेयरमेन इजि.अतुल जैन ने बताया कि गत अधिवेशन में लिये गये निर्णयों एवं उन निर्णयों पर हुए कार्यो की समीक्षा की जायेगी, साथ ही अगले वर्श हाथ में लिये जाने वाले कार्यो पर भी चर्चाएं होती है।

इजि.वाय.के.बोलिया ने बताया कि यह सोसायटी समाज सेवा के तहत समाज के उस गरीब तबके तक भी पहुंचती है जो गरीबी की रेखा से भी नीचे जीवन यापन कर रहे है। जिन परिवारों के छोटे-छोटे बच्चें तक इधर उधर काम करते हैं। हम उनके बच्चों को चिन्हित कर उन्हें शिक्षा प्रदान करने का कार्य करते हैं। अभी तक ऐसे १२०० गरीब बच्चों को सोसायटी मुख्य धारा में ला चुकी हैं एवं उनमें से कईयों ने इंजीनियरिंग की पढाई भी कर ली और वह नौकरियां भी कर रहे हैं।

इजि.आर.क.ेचतुर ने बताया कि अधिवेशन में भाग लेने के लिए उदयपुर के बाहर से भी अनेक प्रतिभागी पहुंचे। पहले दिन की चर्चा के बाद शाम को सांस्कृतिक संध्या का आयोजन हुआ।


Source :
This Article/News is also avaliable in following categories : Education
Your Comments ! Share Your Openion

You May Like