मंदिर को तोड़ना उचित नहीं-महंत नरेन्द्र गिरी

( 1780 बार पढ़ी गयी)
Published on : 14 Jun, 18 15:06

साधु-संतों की जानी-मानी संस्था अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेन्द्र गिरी ने प्रशासन के दोहरे चरित्र पर नाराजगी व्यक्त करते हुए कहा कि सड़क चौड़ीकरण में केवल मंदिर को तोड़ना उचित नहीं है, इसके रास्ते में मस्जिद, मजार और गुरुद्वारा जो भी आता है उसका उचित प्रबंध कर अन्यत्र स्थापित किया जाए।महंत श्री गिरी ने कहा कि विश्व का सबसे बड़ा आध्यत्मिक मेला कुंभ 2019 के लिए शहर में सड़क मार्ग को चौड़ीकरण करने का कार्य तेजी से किया जा रहा है। इसके रास्ते में पड़ने वाले मंदिरों को तोड़ा जा रहा है। दूसरे धर्म के स्थलों को छोड़ना न्यायोचित नहीं होगा। चौड़ीकरण के रास्ते में पूजास्थल मंदिर, मस्जिद, मजार या गुरुद्वारा जो भी आता है, उसे वहां से हटा कर अन्या स्थापित किया जाए।मंहत श्री गिरी ने कहा कि सड़क चौड़ीकरण के मार्ग में किसी भी धर्म से संबंधित उसका पूज्य स्थल आता है तो उनका ध्यान रखा जाये और प्रयास किया जाए की उन्हें अन्यत्र स्थापित किया जाए। उन्होंने कहा कि किसी एक धर्मिक स्थल को तोड़ने से उसके प्रति आस्था रखने वाले लोगों में आक्रोश उत्पन्न होगा, जो उचित नहीं है।
साभार :


© CopyRight Pressnote.in | A Avid Web Solutions Venture.