Pressnote.in

निष्पक्ष एवं पारदर्शी निर्वाचन प्रक्रिया के लिए सक्रिय सहयोग

( Read 500 Times)

13 Jun, 18 16:52
Share |
Print This Page

जयपुर । जयपुर जिले के उप जिला निर्वाचन अधिकारी एवं अतिरिक्त जिला कलक्टर (द्वितीय) श्री सुनील भाटी ने राजनैतिक दलों के प्रतिनिधियों से अपील की है कि वे निष्पक्ष, सुचारू एवं पारदर्शी तरीके से निर्वाचन प्रक्रिया के सम्पादन के लिए मतदाता सूचियों के पुनरीक्षण कार्यक्रम तथा मतदान केन्द्रों के ‘रेस्नलाईजेशन’ सहित अन्य गतिविधियों में सक्रियता से भाग लेकर सहयोग प्रदान करे।
श्री भाटी बुधवार को जिला कलेक्टेªट में जयपुर जिले में मतदाता सूचियों के द्वितीय विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण कार्यक्रम के संबंध में आयोजित बैठक को सम्बोधित कर रहे थे। बैठक में विभिन्न राजनैतिक दलों के प्रतिनिधी एवं मीडियाकर्मी मौजूद थे।
मतदान केन्द्रों पर ‘बीएलए’ लगाएं
उप जिला निर्वाचन अधिकारी (डीडीईओ) ने कहा कि इस विशेष पुनरीक्षण अभियान के तहत बूथ लेवल अधिकारी (बीएलओ) घर-घर जाकर मतदाताओं का सत्यापन कर रहे है। इसमें एक जनवरी, 2018 को 18 वर्ष की आयु की अर्हता के आधार पर नाम जोड़ने की कार्यवाही की जा रही है। राजनैतिक दल सभी पात्र लोगों के नाम मतदाता सूची में जोड़ने एवं अपात्र लोगों के नाम हटाने में बीएलओ का सहयोग करे। उन्होंने पार्टियों के प्रतिनिधियों से सभी मतदान केन्द्रों पर बूथ स्तरीय अभिकर्ता (बीएलए) भी लगाने को कहा।
मतदाता सूचियों के ड्राफ्ट का प्रकाशन 31 जुलाई को
डीडीईओ ने बैठक में बताया कि इस पुनरीक्षण अभियान के बाद 31 जुलाई को जयपुर जिले की मतदाता सूचियों के प्रारूप का प्रकाशन किया जायेगा। इसके आधार पर 31 जुलाई से 31 अगस्त तक दावे और आपत्तियां आमंत्रित की जायेगी। उन्होंने इस प्रकार मतदाता सूचियों को अपडेट करने की प्रक्रिया में सहयोग का आग्रह किया।
पोलिंग बूथ्स के ड्राफ्ट का प्रकाशन 30 जुलाई को
श्री भाटी ने कहा कि जिले में मतदान केन्द्रों के ‘रेस्नलाईजेशन’ का कार्यक्रम भी चलाया जा रहा है, जिसके तहत ग्रामीण क्षेत्र में एक बूथ पर 1200 तथा शहरी क्षेत्र में 1400 से अधिक मतदाता होने पर बूथों के पुर्नगठन का प्रावधान है। साथ ही मतदाताओं के लिए पोलिंग बूथ की दूरी 2 किलोमीटर से ज्यादा होने पर भी आपत्तियां दी जा सकती है। उन्होंने कहा कि 21 जून से 20 जुलाई तक जिले में फील्ड विजिट करके आपत्तियों के आधार पर ‘शिफ्टिंग’ की जानी है। पोलिंग बूथ्स के प्रारूप का प्रकाशन 30 जुलाई को किया जायेगा, इससे पहले इस संबंध में कोई आपत्ति हो तो जिला निर्वाचन कार्यालय के ध्यान में लाया जा सकता है।
ईवीएम की प्रथम स्तरीय जांच 19 जून से
डीडीईओ ने बताया कि जिले में निर्वाचन के लिए करीब 7 हजार ईवीएम मशीने आ गई है, इनकी ‘फर्स्ट लेवल चैकिंग’ का कार्य लालकोठी पर स्थित ‘वेयरहाऊस’ में 19 जून से आरम्भ होगा। इस जांच में राजनैतिक दलों के जिलाध्यक्ष या उनके द्वारा मनोनीत प्रतिनिधि भाग ले सकते है। जिलाध्यक्षों द्वारा मनोनीत प्रतिनिधियों को जांच से संबंधित कार्य में भाग लेने के लिए परिचय पत्र भी दिये जायेंगे। उन्होंने बताया कि यह जांच पूर्ण होने के बाद 5 प्रतिशत ईवीएम का रेण्डम आधार पर चयन करते हुए मॉकपोल होता है। इसमें राजनैतिक दलों के प्रतिनिधियों द्वारा बताये गये नम्बर की ईवीएम को भी शामिल किया जा सकता है।
Source :

यह खबर निम???न श???रेणियों पर भी है: Rajasthan News
Your Comments ! Share Your Openion

Group Edior : Mr. Virendra Shrivastava
For any queries please mail us at : newsdesk.pr@gmail.com For any content related issue or query email us at newsdesk.pr@gmail.com, CopyRight © All Right Reserved. Pressnote.in